नई दिल्लीः कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश के उन्नाव में एक महिला की उससे बलात्कार के प्रयास की शिकायत कथित रूप से पुलिस द्वारा दर्ज नहीं करने की खबर का उल्लेख करते हुए रविवार को भाजपा सरकार को ‘‘दुष्प्रचार में विशेषज्ञ’’ करार दिया. उन्होंने एक ट्वीट कर राज्य में त्वरित सुनवायी अदालतें शुरू करने में ‘‘देरी’’ पर भी सवाल उठाया.

प्रियंका गांधी वाड्रा ने महिला के आरोप की खबर टैग करते हुए ट्वीट किया, ‘‘पुलिस का उस महिला से व्यवहार देखिये जो उन्नाव में पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराने के लिए गई. और यह तब हुआ जब वहां एक दुखद घटना हुई है.’’

प्रियंका गांधी वाड्रा का ‘‘दुखद घटना’’ से आशय जिले की 23 वर्षीय बलात्कार पीड़िता की दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत से था जिसे पांच व्यक्तियों ने जला दिया था. उसे जलाने वालों में उससे कथित तौर पर बलात्कार करने के दो आरोपी भी शामिल थे. उक्त लड़की को तब जलाया गया था जब वह स्वयं द्वारा दायर बलात्कार के मामले की अदालत में सुनवायी के लिए रायबरेली जा रही थी.

उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा सरकार और उसकी पुलिस दुष्प्रचार में विशेषज्ञ है. तथ्य यह है कि त्वरित सुनवायी अदालत के गठन के प्रस्ताव को अभी तक उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा लंबित रखा गया है.’’ उन्होंने यह भी सवाल किया कि राज्य में ऐसी स्थिति कब तक चलेगी. प्रियंका गांधी वाड्रा शनिवार को बलात्कार पीड़िता के परिवार से मुलाकात करने के लिए उन्नाव भी गई थीं.