नई दिल्ली: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश के जालौन जिले में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा खंडित किए जाने की निंदा करते हुए शनिवार को कहा कि महापुरुषों की मूर्तियों पर हमले करके कोई उनकी महानता को जरा भी कमतर नहीं कर सकता. उन्होंने ट्वीट किया, ‘कुछ दिन पहले उप्र में बाबासाहेब आम्बेडकर की मूर्ति को असामाजिक तत्वों ने तोड़ा. अब जालौन में महात्मा गांधी की मूर्ति को तोड़ा गया.”

प्रियंका ने कहा, ‘मूर्ति तोड़ने वाले कायरों, जीवन में यही तुम्हारी उपलब्धि है कि रात के अंधेरे में छिपकर तुम देश के महापुरुषों का अपमान करने की कोशिश करते हो? मूर्तियों पर हमला करके इन महापुरुषों की महानता का एक अंश भी तुम हिला-डुला नहीं सकते.’ गौरतलब है कि पिछले दिनों उत्तर प्रदेश के जालौन जिले की कोतवाली उरई क्षेत्र के गांधी इंटर कॉलेज में स्थापित राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा को असामाजिक तत्वों ने खंडित कर दिया.

उरई: महात्मा गांधी की प्रतिमा की क्षतिग्रस्त, चश्मा-लाठी गायब, इंदिरा गांधी ने 1970 में किया था अनावरण

बता दें कि एक दिन पहले कोतवाली उरई क्षेत्र के गांधी इंटर कॉलेज में स्थापित राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा को असमाजिक तत्वों ने खंडित कर दिया था. घटना के बाद विभिन्न राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं ने धरना देकर नए सिरे से महात्मा गांधी की प्रतिमा स्थापित करने और असमाजिक तत्वों को गिरफ्तार कर जेल भेजने की मांग की. बताया जा रहा है कि बापू की प्रतिमा का चश्मा, लाठी, किताब अब भी गायब है. इस प्रतिमा को 1970 में स्थापित कराया गया था. ये प्रतिमा गांधी इंटर कॉलेज में लगी हुई है. इसका अनावरण तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने किया था.

पुलिस अधीक्षक सतीश कुमार ने बताया की गांधी इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य रवि कुमार अग्रवाल ने कोतवाली में शिकायत देकर कहा है कि पूर्व निर्धारित समय के अनुसार आज जैसे ही वह कॉलेज पहुंचे, तो देखा की महात्मा गांधी की प्रतिमा का सिर जमीन पर टूट कर पड़ा है. उन्होंने इसकी सूचना प्रबंधन को भी दे दी. इसके बाद मामले ने तूल पकड़ लिया.