नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बुधवार को कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी बहन प्रियंका गांधी को आगामी लोकसभा चुनाव से पहले पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभारी नियुक्त किया है जो उनकी ‘असफलता’ को दर्शाता है. बीजेपी ने निशाना साधते हुए कहा कि प्रियंका गांधी का चुनाव से पहले आना राहुल की नाकामी है. बीजेपी के कई नेताओं ने प्रियंका की कांग्रेस में एंट्री को लेकर निशाना साधा है. इसे लेकर सियासत तेज हो गई है.

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने प्रियंका की एंट्री को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा है. रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राजनीति में कांग्रेस परिवार का और विस्तार हो गया है. प्रियंका को महासचिव बनाए जाने पर बधाई देते हुए उन्होंने कहा कि प्रियंका को सिर्फ पूर्वी यूपी का प्रभारी क्यों बनाया गया है. उनका कांग्रेस महासचिव बनना कोई नई बात नहीं हैं. केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि प्रियंका का आना राहुल की नाकामी है. प्रियंका की एंट्री बताती है कि राहुल गांधी नाकामयाब हो गए हैं. यही वजह है कि प्रियंका को कांग्रेस में लाया गया है.

प्रियंका गांधी की कांग्रेस में आधिकारिक एंट्री, सौंपी गई ये अहम जिम्मेदारी

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा, ‘कांग्रेस को राज्यों में महागठबंधन के हिस्से के रूप में स्वीकार नहीं किया गया है, इसलिए परिवार में एक बैसाखी की तलाश की गई है. प्रियंका जो उनके (राहुल के) परिवार से हैं, उनके लिए एक बैसाखी की तरह हैं.’ संबित ने कहा कि भाजपा और कांग्रेस के बीच यही बुनियादी अंतर है. उन्होंने कहा, ‘भाजपा के लिए पार्टी परिवार है जबकि कांग्रेस के लिए परिवार ही पार्टी है. सभी चयन केवल एक ही परिवार से किए जाते हैं. कहीं राहुल फेल हो गए..तो नेहरू, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, सोनिया गांधी के बाद अगला कौन होगा? केवल एक परिवार! नया भारत यह सवाल पूछ रहा है.’ बीजेपी नेताओं की ये टिप्पणियां राहुल गांधी द्वारा बुधवार को प्रियंका गांधी को पार्टी महासचिव पूर्वी उत्तर प्रदेश इंचार्ज के रूप में नियुक्त करने की घोषणा के बाद आई हैं. प्रियंका फरवरी के पहले सप्ताह में कार्यभार संभालेंगी.