नई दिल्ली: यूपी की सियासत में बवाल लगातार जारी है. इस बीच कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी (Priyanka Gandhi) ने यूपी पुलिस (UP Police) पर बड़ा आरोप लगाया है. राजधानी लखनऊ (Lucknow) में प्रियंका गांधी ने यूपी पुलिस पर बदसुलूकी का आरोप लगाया है. प्रियंका गांधी ने कहा कि पुलिस ने उनके साथ गलत व्यवहार किया. उन्हें धक्का दिया, इससे वह गिर गईं.

प्रियंका गांधी ने कहा कि वह कार से नागरिकता क़ानून (Citizenship Amendment Act) का शांतिपूर्ण विरोध करने पर जेल भेजे गए पूर्व आईपीएस अधिकारी एसआर दारापुरी और महिला एक्टिविस्ट सदफ जफ़र के घर उनके परिजनों से मिलने जा रही थीं. इसी दौरान उनकी कार रोकी गई. जब वह स्कूटी से जाने लगीं. मैं शांतिपूर्ण तरीके से जा रही थीं. तो रोका गया. पुलिस ने कहा कि आप नहीं जा सकती. जब मैंने पूछा कि क्यों नहीं जा सकती. क्या वजह है. जबकि पुलिस को पता भी नहीं था कि मैं कहां जा रही थीं.

प्रियंका ने कहा कि इसके बाद भी मुझे रोका. इस पर मैं स्कूटी से उतर पैदल जाने लगीं. फिर से पुलिस ने घेर लिया. और पीछा किया. न रुकने पर पुलिस ने उन्हें गलत तरीके से रोकने की कोशिश की. उन्हें धक्का दिया गया. गला पकड़कर रोकने की कोशिश की गई. इससे वह गिर गईं. ये पूरी घटना लखनऊ के लोहिया पार्क के पास की बताई जा रही है.

CAA का विरोध कर रहे मुस्लिमों को SP की धमकी- यहां नहीं रहना तो पाकिस्तान जाओ, VIDEO

बता दें कि नागरिकता क़ानून की आलोचना और विरोध करने पर पूर्व आईपीएस अधिकारी एसआर दारापुरी और महिला एक्टिविस्ट सदर जफ़र के घर उनके परिजनों से मिलने जा रहीं थीं. प्रियंका गांधी को उनके घर जाने से पहले रोक दिया गया. प्रियंका ने इससे पहले कांग्रेस के 135वें स्थापना दिवस के कार्यक्रम में हिस्सा लिया. इस कार्यक्रम के बाद ही वह जेल में बंद एसआर दारापुरी और महिला एक्टिविस्ट सदर जफ़र के घर उनके परिजनों से मिलने जा रही थीं.

Video: सुरक्षा घेरा तोड़कर मिलने पहुंचा कार्यकर्ता, प्रियंका गांधी ने हाथ मिलाया और सुनी ‘मन की बात’