अमेठी: अमेठी जिले के पीपरपुर क्षेत्र में लूट के एक आरोपी की पुलिस हिरासत में मंगलवार को कथित तौर पर मौत हो गई। इस मामले पर मजिस्ट्रेट से जांच के आदेश दिए गए हैं. पुलिस इसकी विभागीय जांच भी करवाएगी. अमेठी के जिलाधिकारी प्रशांत शर्मा ने बताया कि मामले की गंभीरता को देखते हुए मजिस्ट्रेट से जांच के आदेश दे दिए गए हैं. पूरे मामले की जांच अमेठी के जिला मजिस्ट्रेट योगेन्द्र कुमार सिंह करेंगे. उधर, एसपी ख्याति गर्ग ने बताया कि घटना की उच्च स्तरीय विभागीय जांच के आदेश दे दिए गए हैं. अमेठी के अपर एसपी दयाराम को जांच सौपी गई है.

बता दें कि अमेठी जिले के पीपरपुर क्षेत्र में हाल ही में बैंक कर्मचारी से 26 लाख रुपए लूटे जाने के मामले में पूछताछ के मकसद से हिरासत में लिए गए एक व्यक्ति की मंगलवार देर रात संदिग्ध हालात में मौत हो गई.

हमें विपक्ष में बैठने का जनादेश मिला है, परिस्थितियां बदलीं तो देखेंगे: NCP नेता पटेल

पांच अक्टूबर को पीपरपुर थाना क्षेत्र के परसोईया इलाके में यूको बैंक की दूसरी शाखा में रकम डालने जा रहे शाखा प्रबन्धक से हुई 26 लाख रुपए की लूट के मामले में पुलिस तथा स्पेशल आपरेशन ग्रुप (एसओजी) ने सत्य प्रकाश शुक्ला (50) और उनके बेटों को 28/29 अक्टूबर की रात करीब दो बजे घर से हिरासत में लिया था. अपर एसपी दयाराम के मुताबिक, शुक्ला ने पकड़े जाने के दौरान अपने घर में ही जहर खा लिया. रास्ते में तबीयत खराब होने पर उसे सुलतानपुर जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. शुक्ला के परिजन का दावा है कि पुलिस ने उसे बेहद प्रताड़ित किया और जहर खिला दिया, जिससे उसकी मौत हो गई.

इस बारे में शिकायत किए जाने पर सुलतानपुर के एसपी हिमांशु कुमार के निर्देश पर शहर कोतवाली में एसओजी (SOG) अमेठी और पीपरपुर पुलिस के सम्बन्धित अफसरों और कर्मियों के खिलाफ धारा 302 (हत्या), 392 (लूट के लिये दण्ड), 504 (शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमान करना), 452 (बिना अनुमति घर में घुसना, चोट पहुंचाने के लिए हमले की तैयारी) के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. हालांकि,अपर पुलिस अधीक्षक ने शुक्ला को प्रताड़ित करने और पुलिस द्वारा जहर खिलाए जाने के आरोपों को निराधार बताते हुए कहा कि पुलिस 26 लाख रुपए की लूट के मामले में पूछताछ के लिए उसे पकड़ने गई थी तभी उसने घर के अंदर ही जहर खा लिया.