नई दिल्ली: कैंसर से जूझ रहे जेएनयू के एक प्रोफेसर ने एक किताब लिखी है जिसमें दिव्यांग अध्ययन पर शिक्षण एवं शोध को बढ़ावा देने में हुई प्रगति की आलोचनात्मक समीक्षा की गई है. उन्होंने कहा कि यूजीसी ने दिव्यांग अध्ययन की उन्नति पर एक आदर्श पाठ्यक्रम विकसित करने वाली समिति गठित करने को लेकर कोई पहल नहीं की है.

पोलियो ग्रस्त भी हैं गजेंद्र
दिव्यांग अधिकार कार्यकर्ता गजेंद्र नारायण कर्ण ने ‘करिकुलम डेवलपमेंट ऑन डिसेबिलिटी स्टडीज’ नाम की एक किताब लिखी है. गजेंद्र पिछले 18 महीने से कैंसर से जूझ रहे हैं, करीब तीन साल की उम्र में ही वो पोलियो की चपेट में आ गए थे. उन्होंने कहा कि सितंबर 2005 में दिव्यांग अध्ययन को मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने अकादमिक शिक्षण के तौर पर मान्यता प्रदान की थी.

दिल्ली NCR में प्रदूषण कम करने की कवायदें फेल, वायु गुणवत्ता ‘गंभीर’ स्तर पर पहुंची

UGC ने नहीं की पहल
गजेंद्र ने बताया कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में दिव्यांग अध्ययन पर विशेष विभाग और केंद्र की स्थापना करने तथा केंद्रीय विश्वविद्यालयों में इससे संबंधित राजीव गांधी पीठ की स्थापना के निर्देश दिए थे. 11वीं पंचवर्षीय योजना में भी इससे जुड़ी बात कही गई थी. लेकिन इन सबके बावजूद यूजीसी ने दिव्यांग अध्ययन पर आदर्श पाठ्यक्रम विकास समिति गठित करने की दिशा में कोई पहल नहीं की है.

सीबीआई मुख्यालय पर प्रदर्शन के बाद राहुल गांधी ने दी गिरफ्तारी, थाने पर पहुंचे कांग्रेसी

उन्होंने दावा किया कि इस बीच 17 से ज्यादा विश्वविद्यालयों/शैक्षणिक संस्थाओं ने दिव्यांग अध्ययन कार्यक्रम शुरू करने की दिशा में कदम उठाए हैं. लेकिन आदर्श पाठ्यक्रम के अभाव में यह काम अभी सही तरीके से नहीं किया जा सका है. (इनपुट भाषा)