मशहूर न्यूरोलॉजिस्ट अशोक पनगढ़िया (Prominent neurologist Dr Ashok Panagariya) का आज शुक्रवार को कोविड-19 सम्बंधी जटिलताओं के कारण निधन हो गया. पनगढ़िया 25 दिनों से अधिक समय तक अस्पताल में थे. उनके फेफड़े खराब हो गए थे. डॉक्टर पनगढ़िया कोविड से उबर भी गए थे लेकिन फेफड़ों की जटिलता से वह नहीं बच सके.

पनगढ़िया के नाम पर विभिन्न स्वास्थ्य पत्रिकाओं में 90 से अधिक शोध पत्र हैं. उन्होंने अपने चिकित्सा और सामाजिक सहयोग के लिए यूनेस्को पुरस्कार जीता है, और उन्हें नागरिक अलंकरण पद्म श्री से भी सम्मानित किया गया था. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Rajasthan CM Ashok Gehlot) ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है.

सीएम ने एक ट्वीट में कहा कि प्रसिद्ध न्यूरोलॉजिस्ट और पद्मश्री डॉक्टर अशोक पनगढ़िया के प्रति संवेदना हैं. डॉक्टर अशोक ने चिकित्सा क्षेत्र में महत्वपूर्ण पदों पर काम किया. यहां तक कि महामारी के दौरान भी उन्होंने राज्य में एक चिकित्सक के रूप में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

उनके निधन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दुख जताया है. पीएम ने ट्वीट कर कहा- डॉक्टर अशोक पनगढ़िया ने एक उत्कृष्ट न्यूरोलॉजिस्ट के रूप में अपनी पहचान बनाई. मेडिकल के क्षेत्र में उनके अग्रणी कार्य से डॉक्टरों और शोधकर्ताओं की पीढ़ियों को लाभ होगा. उनके निधन से दुखी हूं. उसके परिवार तथा मित्रों के लिए संवेदनाएं. ओम शांति.