नई दिल्ली: पूर्व केंद्रीय मंत्री और सात बार के सांसद वीरेंद्र कुमार नई लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर होंगे, जिसका पहला सत्र 17 जून से शुरू हो रहा है. मध्य प्रदेश से भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता वीरेंद्र कुमार 17वीं लोकसभा के नव-निर्वाचित सदस्यों को शपथ दिलाएंगे. आपको बता दें कि भारतीय लोकतंत्र में लोकसभा के अध्यक्ष के औपचारिक चुनाव से पहले प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति की परंपरा रही है. पीएम नरेंद्र मोदी की सरकार गठन के बाद लोकसभा का पहला सत्र 17 जुलाई से शुरू होने वाला है. इसी सत्र में स्पीकर का चुनाव किया जाएगा.

मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में, 65 वर्षीय वीरेंद्र कुमार महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री थे. प्रोटेम स्पीकर लोकसभा द्वारा नियमित अध्यक्ष चुने जाने तक एक अस्थायी व्यवस्था है. प्रोटेम स्पीकर सदन के सबसे सीनियर सदस्य को बनाया जाता है. वीरेंद्र कुमार 19 जून को नए स्पीकर चुने जाने से पहले 17 और 18 जून को लोकसभा के नए सदस्यों को शपथ दिलाएंगे.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 20 जून को लोकसभा और राज्यसभा के संयुक्त बैठक को संबोधित करेंगे. नई सरकार पांच जुलाई को अपना पहला बजट पेश करेगी. संसद का सत्र 26 जुलाई तक चलेगा. आपको बता दें कि लोकसभा के उपाध्यक्ष पद के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने अपना दावा पेश किया है. शिवसेना ने अपनी मांग के पीछे दलील दी है कि वह राजग की दूसरी सबसे  बड़ी पार्टी है, इस लिहाज से उसे लोकसभा उपाध्यक्ष का पद दिया जाना चाहिए. हाल ही में संपन्न हुए लोकसभा चुनाव में शिवसेना को महाराष्ट्र में 18 सीटों पर जीत मिली थी. राजग में भाजपा ने कुल 303 सीटों पर जीत हासिल की है. इसके बाद शिवसेना 18 और तीसरे नंबर पर जदयू है, जिसके 16 सांसद जीतकर संसद पहुंचे हैं.

(इनपुट – एजेंसी)