नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को कहा कि अगर कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप के दौरान प्रदर्शनकारी किसान किसी सभा के लिए नगर में आते हैं तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी. केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान ‘दिल्ली चलो’ मार्च के तहत 26 नवंबर को पांच राजमार्गों के रास्ते राष्ट्रीय राजधानी पहुंचेंगे. Also Read - Farmers Protest: पंजाब के मंत्री का बड़ा आरोप, 'एनआईए ने किसान आंदोलन के समर्थकों को नोटिस भेजा'

पुलिस ने ट्विटर पर कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में इस तरह की किसी भी सभा के लिए कोई अनुमति नहीं दी गयी है. Also Read - Republic Day से पहले दिल्ली में आतंकी हमले का खतरा, जारी हुआ अलर्ट, फरार खालिस्तानी आतंकियों के लगे पोस्टर

दिल्ली पुलिस ने अपने आधिकारिक हैंडल से ट्वीट किया कि उत्तर प्रदेश, हरियाणा, उत्तराखंड, राजस्थान, केरल और पंजाब के किसान संगठनों ने 26 और 27 नवंबर को ‘दिल्ली मार्च’ का आह्वान किया है. कोरोना वायरस के प्रकोप के दौरान किसी भी सभा की अनुमति नहीं है. अनुमति नहीं दी गयी है और आयोजकों को काफी पहले ही इस बारे में सूचित कर दिया गया था. Also Read - कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने फिर की अपील, 'कानून निरस्त करने के अलावा विकल्प बताएं किसान यूनियन'

पुलिस ने कहा कि अगर इसके बाद भी प्रदर्शनकारी दिल्ली में आते हैं, तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी. विभिन्न किसान संगठनों की मांग है कि नए कृषि कानूनों को निरस्त किया जाए.

(इनपुट भाषा)