Protest Against Farm Bills 2020: केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि विधेयकों के खिलाफ आज से पंजाब में किसान समिति रेल रोकों अभियान की शुरुआत करेंगे. इसको देखते हुए पंजाब आने जाने वाली सभी ट्रेने को रोक दिया गया है. किसानों के विरोध को देखते हुए और ऐहतियात के तौर पर रेलवे दो दिनों तक यानि 24 से 26 सितंबर तक रेलगाड़ियों की आवाजाही पर रोक लगा दी है.Also Read - Farmers Protest: राकेश टिकैत ने भारत की जांच एजेंसियों पर उठाए सवाल, UN जाने के पक्ष में बोले

किसान मजदूर संघर्ष समिति ने केंद्र सरकार के कृषि से संबंधित विधेयकों के खिलाफ प्रदर्शन को तेज करने का निर्णय लेते हुए घोषणा की कि इस विधेयक के विरोध में 24 से 26 सितंबर के बीच पंजाब में ट्रेनों को चलने नहीं दिया जाएगा। Also Read - Punjab News: कृषि कानूनों के खिलाफ हर शहीद के परिवार को देंगे सरकारी नौकरी, सुखबीर बादल बोले- चुनाव जीते तो PG तक पढ़ाई भी मुफ्त

समिति के महासचिव सरवन सिंह पंढेर ने कहा, ‘‘हमने राज्य में कृषि से संबंधित विधेयकों के खिलाफ ‘रेल रोको’ आंदोलन करने का फैसला किया है.’’ पंजाब में विभिन्न कृषि संगठन पहले ही 25 सितंबर को इस विधेयक के विरोध में ‘बंद’ की घोषणा कर चुके हैं. Also Read - कृषि कानूनों पर शरद पवार की बात से सहमत हुई केंद्र सरकार, कृषि मंत्री बोले- तैयार हैं हम

केंद्र सरकार ने सोमवार को लोकसभा में इन विधेयकों को पेश किया है. ये कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सरलीकरण) विधेयक-2020 और कृषक (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा करार, आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक हैं.

क्रांतिकारी किसान यूनियन के अध्यक्ष दर्शन पाल ने बताया कि पंजाब बंद को समर्थन देने वालों में मुख्य तौर पर भारती किसान यूनियन (क्रांतिकारी), कीर्ति किसान यूनियन, भारती किसान यूनियन (एकता उगराहां), भाकियू (दोआबा), भाकियू (लाखोवाल) और भाकियू (कादियां) आदि संगठन शामिल हैं.