Protest Against Kisan Bill: किसान बिल को लेकर देश भर में जारी किसान संगठनों के विरोध प्रदर्शन के बीच एनडीए में भी दरार आ गया है. पंजाब में एनडीए के प्रमुख सहयोगी दल शिरोमणि आकाली दल ने पहले ही इस मसले पर सरकार का साथ छोड़ दिया है. अब बिहार में एनडीए के वरिष्ठ साथी जदयू ने भी भाजपा से अलग सुर अलापा है.Also Read - Uttarakhand: जागेश्वर धाम गए थे यूपी के भाजपा सांसद, Video Viral होने के बाद दर्ज हुई FIR

दरअसल, बिहार में होने जा रहे विधानसभा चुनाव से पहले जदयू किसान बिल के मसले पर फूंक-फूंक कर चल रही है. जदयू ने कहा है कि वह किसान बिल को लेकर विभिन्न किसान संगठनों की मांग के साथ हैं. किसान संगठन किसान बिल में न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम पर कृषि उत्पादों की खरीदारी को अपराध घोषित करने की मांग कर रहे हैं. किसान संगठनों को आशंका है कि इस किसान कानून की आड़ में निजी कंपनियां किसानों से एमएसपी से कम मूल्य पर चीजें खरीद लेंगी. Also Read - भारी पुलिस बल को चकमा भाजपा सांसद ने आंबागढ़ किले पर फहराया आदिवासी सफेद झंडा, जानिए मामला

इंडियन एक्सप्रेस अखबार से बातचीत में जदयू के राज्यसभा सांसद और मुख्य महासचिव केसी त्यागी ने कहा कि हमने दोनों विधेयकों का संसद में स्वागत किया है. हमारी पार्टी ने इनका समर्थन किया है. लेकिन हम किसानों की उस मांग का भी समर्थन कर रहे हैं जिसमें एक कानून बनाने को कहा जा रहा है जिससे कि निजी कंपनियां किसानों से एमएसपी से कम दाम पर उत्पाद न खरीदें. इसको लेकर किसी भी उल्लंघन को दंडात्मक अपराध करार देना चाहिए. Also Read - मणिपुर में 6 बार MLA रहे गोविनदास कोंथूजाम ने ज्‍वाइन की BJP, विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका

त्यागी से जब यह पूछा गया कि क्या उनकी पार्टी इसको लेकर आधिकारिक तौर पर मांग रखेगी तो उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने आश्वस्त किया है कि एमएसपी जारी रहेगा. इस बारे में पीएम ने संसद में बोला है कि एमएसपी उल्लंघन अपराध माना जाएगा.