पणजी: राफेल सौदे पर उच्चतम न्यायालय के निर्णय के एक दिन बाद केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शनिवार को कहा कि फ्रांस से 36 लड़ाकू विमानों की खरीद का विरोध कर कांग्रेस देश की सुरक्षा तैयारियों से ‘‘खिलवाड़’’ कर रही है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का आरोप है कि इस सौदे में प्रक्रियागत गड़बड़ियां हुई है. उनका कहना है कि राफेल विमान को लेकर उनका कोई विरोध नहीं है उनका विरोध इसकी खरीद प्रक्रिया को लेकर है.

राफेल डील: मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा- अटॉर्नी जनरल और कैग को तलब करेगी पीएसी

कांग्रेस के झूठ का पर्दाफाश
मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावेडकर यहां गोवा विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में हिस्सा लेने आए थे. इस दौरान पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा,‘‘उच्चतम न्यायालय ने कांग्रेस के झूठ का पर्दाफाश करते हुये सौदे को यह कहते हुये क्लीन चिट दी है कि इसमें आगे जांच की कोई जरूरत नहीं है, तब भी कांग्रेस इसमें अपनी मांग (जेपीसी जांच) को लेकर अड़ियल रूख अपनाए हुये है.’’ जावडेकर ने दीक्षांत समारोह में छात्रों को डिग्री भी प्रदान की. साथ ही इस मौके पर कांग्रेस को खरी-खोटी सुनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी.

कांग्रेस जिम्मेदारी निभाने में विफल
प्रकाश जावड़ेकर ने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा, ‘‘ उनके विरोध का केवल एक ही निष्कर्ष निकाला जा सकता है, वह यह कि वे (कांग्रेस) चाहते हैं कि सौदे को रोक दिया जाए, जिससे देश की सुरक्षा तैयारियां कमजोर हो जाए. हम ऐसा नहीं होने देंगे.’’ उन्होंने कांग्रेस को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि उसने सात साल (2014) तक इस सौदे को लटकाए रखा. उन्हें इसे पूरा करना चाहिए था लेकिन वे अपनी जिम्मेदारी निभाने में विफल रहे. उन्होंने भाजपा की इस मांग को दोहराया कि राहुल गांधी को राफेल सौदे में अनियमितताओं के अपने आरोपों को लेकर देश, सैन्य बलों और संसद से माफी मांगनी चाहिए. (इनपुट एजेंसी)

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- सरकार ने राफेल जेट के दाम संसद को नहीं बताए, लेकिन कैग को बताए