पुदुच्चेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी और मुख्यमंत्री वी नारायणसामी के बीच टकराव की स्थिति पैदा हो गई है। सीएम ने प्रदेश में सरकारी बाबुओं के लिए सोशल मीडिया के इस्तेमाल पर रोक लगाई थी। गर्वनर किरण बेदी ने उनके इस फैसले पर रोक लगाते हुए सुनिश्चित किया है कि सरकारी कर्मचारी ट्विटर, व्हाट्सऐप और फैसबुक जैसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म का इस्तेमाल कर सकें। किरण बेदी ने कहा कि महत्वपूर्ण योजनाओं को लागू करने तथा उनका प्रचार करने के लिए सरकारी अधिकारियों द्वारा सोशल मी़डिया का इस्तेमाल किया जा सकता है, और किया जाना चाहिए। इसीलिए उन्होंने मुख्यमंत्री की पाबंदी को निरस्त कर दिया।

इससे पहले दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के बीच भी काफी ठनी रही है। अब किरण बेदी के इस फैसले के बाद सवाल उठाए जा रहे हैं कि क्या उपराज्यपाल सरकार के अधिकार क्षेत्र में दखल दे रही हैं। किरण बेदी ने खुद विभिन्न सरकारी योजनाओं को लागू करने के बारे में जानकारी के लिए वाट्सऐप ग्रुप बनाया है। उनका मानना है कि देश की प्रगति के लिए तकनीकि का भरपूर इस्तेमाल किया जाना चाहिए न कि उस पर रोक लगाई जानी चाहिए। यह भी पढ़ेंः किरण बेदी बनी पु़ुडुचेरी की उपराज्यपाल

वी नारायणसामी ने सोमवार को एक नोटिस में कहा था कि सरकारी कर्मचारियों को सोशल मीडिया का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिएदे क्योंकि फेसबुक तथा ऐसी अन्य साइटों के सर्वर विदेशों में स्थित है। इस नोटिस में ऑफिशियल सेक्रेट ऐक्ट तक का हवाला दिया गया था। इस नोटिस में यह भी कहा गया कि सरकारी सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए वाट्सऐप ग्रुप नहीं बनया जाना चाहिए।