पुडुचेरी: पुडुचेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी पर हमला तेज करते हुए मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी ने अपने मंत्रिमंडल सहयोगियों के साथ राज निवास के बाहर धरना शुरू किया. सीएम ने बुधवार को धरना देते हुए केंद्र सरकार से अपील की वे राज्‍यपाल को वापस बुला ले. मुख्यमंत्री नारायणसामी की मांग है कि मुफ्त चावल बांटने की योजना सहित 39 सरकारी प्रस्तावों को उपराज्यपाल मंजूरी दें. सीएम आरोप लगाया कि उपराज्यपाल की मंजूरी के लिए पिछले कुछ सप्ताह में उन्हें 39 सरकारी प्रस्ताव भेजे गये, लेकिन राज्‍यपाल इन प्रस्तावों पर मंजूरी नहीं दी. Also Read - Protest Against Kiran Bedi: किरण बेदी के खिलाफ प्रदर्शन शुरू, जानें क्यों पद से हटाने की हो रही मांग

Also Read - Farmers Protest: सरकार और किसानों के बीच आज होगी वार्ता, इन मांगों पर होगी चर्चा

एक्ट्रेस को मोबाइल शॉप चलाने वाले से हुआ प्यार, एक्टिंग छोड़ पार्लर तक चलाया, फिर भी देनी पड़ी जान Also Read - Farmers Protest: किसान आंदोलन पर केंद्र, पंजाब और हरियाणा सरकार को नोटिस, सुप्रीम कोर्ट ने मांगा जवाब

नारायणसामी ने कहा कि जागरूकता फैलाए बगैर बेदी ने अपने हाल के फैसले में लोगों के लिए हेलमेट पहनना अनिवार्य कर दिया है, जो साफ तौर पर उनकी मनमानी और लोगों को प्रताड़ित करने का मामला प्रतीत होता है. राज्य सरकार ने इस संबंध में पहले लोगों में जागरूकता फैलाने का प्रस्ताव दिया था.

कांग्रेस और द्रमुक के विधायक भी राज निवास के बाहर हो रहे प्रदर्शन में शामिल हैं. राज निवास उपराज्यपाल का आधिकारिक कार्यालय सह निवास स्थान है.

अश्विनी लोहानी दूसरी बार बने एयर इंडिया के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक

मुख्‍यमंत्री का आरोप है कि विभिन्न मामलों पर उनकी स्वीकृति के लिए भेजी गई फाइलों को उपराज्यपाल ने खारिज कर दिया. उनके इसी नकारात्मक विरोध में मुख्यमंत्री और उनके सहयोगी मंत्री काली कमीज में राज निवास के बाहर सड़क पर धरने पर बैठ गए हैं.

पहली पत्‍नी भीड़ लेकर आई, विधायक और उसकी ‘सेकेंड वाइफ’ को जमकर पीटा

मुख्यमंत्री ने बाद में मीडियाकर्म‍ियों से कहा कि गरीबों एवं जरूरतमंदों के उत्थान के लिए सरकारी प्रस्तावों को लगातार खारिज किए जाने पर वह कड़ा विरोध जताते हैं.