Puducherry Political Crisis: पुडु सरकार (Narayanaswamy) पर संकट और गहरा गया है. फ्लोर टेस्ट से पहले कांग्रेस के एक और विधायक ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. फ्लोर टेस्ट से ठीक एक दिन पहले कांग्रेस विधायक के लक्ष्मीनारायणन ने अपना त्यागपत्र विधानसभा स्पीकर वीपी शिवाकोझुंडु को सौंपा है. इस त्यागपत्र के बाद कांग्रेस के लिए बहुमत साबित करना बेहद चुनौतीपूर्ण होगा.Also Read - 26 महिलाओं से शादी का वादा करके शारीरिक रिश्‍ते बनाए, इस शातिर ने ठग लिए करोड़ों

बता दें कि वी नारायणसामी (V Narayanasamy) की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार को 22 फरवरी की शाम पांच बजे तक बहुमत साबित करने को कहा गया है. Also Read - Lockdown Update: इस केंद्र शासित प्रदेश में 2 जनवरी तक बढ़ाया गया लॉकडाउन, जानें गाइडलाइंस

Also Read - Weather News Upadte: IMD का अलर्ट, कल रात से कहां होगी बर्फबारी, देश के किन राज्‍यों में होगी बारिश

पुडुचेरी की उपराज्यपाल तमिलिसाई सौंदरराजन ने सत्ताधारी दल के कुछ विधायकों के इस्तीफे के बाद केंद्र शासित प्रदेश की सरकार को 22 फरवरी को सदन में अपना बहुमत साबित करने को कहा है. सत्तारूढ़ दल के विधायकों की संख्या घटकर 13 रह गई है.

केंद्र शासित प्रदेश के 33 सदस्यीय सदन में सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों की संख्या 14-14 है, जिनमें भाजपा के तीन मनोनीत विधायक भी शामिल हैं. पांच सीटें फिलहाल खाली हैं. कांग्रेस के अपने विधायकों की संख्या 10 है, जबकि उसके सहयोगी द्रमुक के तीन विधायक हैं. सरकार को एक निर्दलीय का भी समर्थन हासिल है.

उपराज्यपाल के सचिवालय की तरफ से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया कि विधानसभा में विपक्ष के नेता और एआईएनआरसी प्रमुख एन रंगास्वामी इस बात पर जोर दे रहे थे कि सरकार को सदन में अपना बहुमत साबित करना चाहिए जिसके बाद सौंदरराजन ने मुख्यमंत्री वी नारायणसामी को यह निर्देश दिया. इसमें कहा गया कि उपराज्यपाल ने नारायणसामी को सूचित किया है कि विधानसभा की बैठक सोमवार को होगी और इसका ‘एकमात्र एजेंडा यह पता करना होगा कि सरकार के पास अब भी सदन में बहुमत है या नहीं.’

इसमें कहा गया कि मतदान हाथ उठाकर होगा और पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी की जाएगी. विज्ञप्ति में कहा गया, ‘उपरोक्त निर्देश के मुताबिक विश्वास मत की प्रक्रिया 22 फरवरी 2021 को शाम पांच बजे तक पूरी कर ली जाएगी और कार्यवाही को किसी भी कीमत पर स्थगित/विलंबित या टाला नहीं जाएगा.’

(इनपुट: भाषा, ANI)