नई दिल्लीः पुलवामा आतंकवादी हमले की जांच में शामिल होने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) के विशेषज्ञों और राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के जांचकर्ताओं की टीम जम्मू-कश्मीर शुक्रवार को रवाना हो गई. हमले में सीआरपीएफ के कम-से-कम 37 जवान शहीद हो गए. अधिकारियों ने यह जानकारी दी.Also Read - CRPF Recruitment 2021: CRPF में इन 2439 विभिन्न पदों पर बिना परीक्षा के पा सकते हैं नौकरी, बस करना होगा ये काम, मिलेगी अच्छी सैलरी

वर्ष 2016 में उरी हमले के बाद राज्य में हुए सबसे भयावह आतंकवादी हमले में काफी संख्या में जवानों के शहीद होने के मद्देनजर यह निर्णय लिया गया है. बृहस्पतिवार को गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि अपराध स्थल के फोरेंसिक मूल्यांकन के लिए जम्मू कश्मीर पुलिस की मदद के लिए एनआईए की एक टीम फोरेंसिक विशेषज्ञों के साथ भेजी जा रही हैं. Also Read - Digipay Sakhi Yojana: डिजी-पे सखी या बैंकिंग सखी योजना महिलाओं को पैसे कमाने में करती है मदद, जानिए-कैसे?

एक अन्य अधिकारी ने बताया कि हमले की जांच में ब्लैक कैट कमांडो बल एनएसजी के विस्फोटक विशेषज्ञ भी शामिल होंगे. बृहस्पतिवार को हुए हमले में केंद्रीय आरक्षित पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 37 से ज्यादा जवान शहीद हो गए जबकि कई अन्य घायल हुए हैं. जैश के एक आत्मघाती हमलावर ने पुलवामा जिले में सीआरपीएफ की एक बस में विस्फोटक लदे वाहन से टक्कर मार दिया. Also Read - West Bengal: NIA जांच के बीच फिर अर्जुन सिंह के घर के पास हुई बमबारी, भाजपा नेता की बढ़ाई गई सुरक्षा