नई दिल्ली: भारत ने शुक्रवार को पाकिस्तान के उच्चायुक्त को तलब किया और पुलवामा आतंकी हमले पर कड़ा विरोध जताते हुये सख्त आपत्तिपत्र (डिमार्शे) जारी किया. पाकिस्तान से आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद के खिलाफ तत्काल एवं प्रमाणिक कार्रवाई करने को भी कहा गया. गौरतलब है कि पुलवामा में बृहस्पतिवार को जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकवादी ने विस्फोटकों से लदे वाहन से सीआरपीएफ जवानों की बस को टक्कर मार दी, जिसमें 40 जवान शहीद हो गए जबकि कई गंभीर रूप से घायल हैं.

गर्भवती हैं पुलवामा में शहीद हुए जवान की पत्नी, कहा- आखिरी बार जी भर बात भी न हो सकी

सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तान में भारत के उच्चायुक्त अजय बिसारिया को इस जघन्य आतंकी हमले के मद्देनजर विचार विमर्श के लिये दिल्ली बुलाया गया है. उन्होंने बताया कि विदेश सचिव विक्रम गोखले ने पाकिस्तान के उच्चायुक्त सोहेल महमूद को शुक्रवार दोपहर 2 बजे विदेश मंत्रालय में तलब किया और बृहस्पतिवार को पुलवामा में आतंकी हमले पर सख्त आपत्तिपत्र जारी किया. विदेश सचिव ने पाकिस्तानी उच्चायुक्त से कहा कि पाकिस्तान जैश ए मोहम्मद के खिलाफ तत्काल एवं प्रमाणिक कार्रवाई करें. सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी उच्चायुक्त से कहा गया कि पाकिस्तान अपने क्षेत्र में आतंकवादी गतिविधियां चलाने वाले संगठनों एवं लोगों को तत्काल रोके.

ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती के वंशज की मांग, अजमेर दरगाह आने से रोके जाएं पाकिस्तान के लोग

विदेश सचिव ने बृहस्पतिवार को पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय द्वारा दिये गये बयान को खारिज कर दिया. भारत ने बृहस्पतिवार को पाकिस्तान से अपनी धरती से आतंकवाद का समर्थन बंद करने और आतंकी आधार भूत ढांचे को ध्वस्त करने को कहा था. भारत ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से जैश ए मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर समेत आतंकवादियों को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की प्रतिबंध समिति के प्रस्ताव संख्या 1267 के तहत घोषित आतंकवादियों की सूची में शामिल करने की मांग की है. विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा है कि भारत अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिये सभी जरूरी कदम उठाने को प्रतिबद्ध है.