नई दिल्ली: श्रीनगर में मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सेना ने कहा कि पुलवामा आतंकी हमले के पीछे पाकिस्तान का हाथ है. पाकिस्तान आधारित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले को अंजाम दिया था. उसने पाकिस्तानी सेना और ISI के इशारे और समर्थन से यह हमला करवाया. सेना ने कहा कि कामरान ही पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड था. लेफ्टिनेंट जनरल ढिल्लन जैसी चिनार कॉर्प्स ने कहा कि कितने गाजी आए, कितने गए. आप बेपरवाह रहिए हम आतंकियों को हरगिज नहीं छोड़ेंगे. Also Read - Hyderabad Rain Updates: हैदराबाद में बारिश से हालात खराब, स्टैंडबाय पर रखी गईं सेना की राहत टीमें

Also Read - पाकिस्तान ने आंतकियों को दी खुली छूट, हाफिज सईद से कहा- कश्मीर में भेजो दहशतगर्द

सेना ने कहा-100 घंटे में मार गिराए जैश के कमांडर, मेन स्ट्रीम में लौटें बंदूक उठा चुके युवा नहीं तो मारे जाएंगे Also Read - पाकिस्तान में थरूर के बयान को लेकर घमासान, भाजपा बोली- राहुल गांधी को ‘राहुल लाहौरी’ कहेंगे

सेना ने कहा कि पुलवामा हमले के 100 घंटे के भीतर ही आतंकियों को ढेर कर दिया गया. इस हमले में ISI के हाथ होने की आशंका से इनकार नहीं करते हैं. सोमवार की घटना में जवान शहीद हुए या फिर घायल हुए. हम स्पष्ट कर दें कि सेना के ऑपरेशन में पूरी तरह से किसी स्थानीय को कोई चोट न पहुंचे इसका ख्याल रखा गया. ‘कल के ऑपरेशन में फ्रंट पर लीड करनेवाले हमारे जवान छुट्टी पर थे, लेकिन वह देशसेवा के लिए ड्यूटी पर तैनात हुए. मैं स्थानीय नागरिकों से अपील करता हूं कि वह ऑपरेशन के दौरान हमारा सहयोग करें.

सेना ने कहा- जो भी घुसपैठ करेगा, बचकर नहीं जा पाएगा, बंदूक उठाने वाला मारा जाएगा- 10 बड़ी बातें

बता दें कि दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में सोमवार को 16 घंटे चली एक मुठभेड़ में 14 फरवरी को सीआरपीएफ काफिले पर हुए आत्मघाती हमले से जुड़े आतंकवादी ‘कामरान’ सहित जैश ए मोहम्मद के तीन आतंकवादी मारे गए जबकि सेना के एक मेजर और चार सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए थे. पिंगलान क्षेत्र में हुई इस भीषण मुठभेड़ में गोली लगने से एक नागरिक भी मारा गया. वहीं इसमें पुलिस उप महानिरीक्षक (दक्षिण कश्मीर) अमित कुमार, एक ब्रिगेडियर, एक लेफ्टिनेंट कर्नल, एक मेजर और यह अभियान संचालित करने वाली सेना की इकाई के चार अन्य कर्मी घायल हो गए.

पुलवामा आतंकी हमला: पाकिस्तानी नागरिकों को 48 घंटे में बीकानेर खाली करने का आदेश

यह मुठभेड़ स्थल उस जगह से करीब 12 किलोमीटर दूर स्थित था जहां गत 14 फरवरी को वह आत्मघाती हमला हुआ था जिसमें जैश ए मोहम्मद के एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटक से भरा अपना वाहन सीआरपीएफ की बस से टकरा दिया था. उस हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे. उक्त आतंकवादी हमले की जिम्मेदारी जैश-ए-मोहम्मद ने ली है.