पुणे. पुणे में एक निजी स्कूल द्वारा जारी विचित्र दिशा-निर्देशों के बाद विवाद खड़ा हो गया है. इसमें लड़कियों को विशेष रंग के अंत:वस्त्र पहनने का निर्देश दिया गया है. ‘एमआईटी विश्वशांति गुरुकुल स्कूल’ ने छात्राओं को सफेद तथा बेज रंग के अंत:वस्त्र वस्त्र पहनने का निर्देश दिया है. दूसरी ओर, एक अन्य को-एड स्कूल में सभी छात्रों से विशेष समय पर शौचालय का इस्तेमाल करने को कहा गया है. Also Read - पुणेः कान्वेंट स्कूल के प्रिंसिपल ने 14 वर्षीय बच्चे को दिखाया पोर्न वीडियो, मामला दर्ज

अभिभावकों ने स्कूल के खिलाफ कदम उठाने की मांग की है. वहीं, अधिकारियों को कहना है कि यह दिशा-निर्दश छात्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए जारी किए गए हैं. शिक्षा (प्राथमिक) के निदेशक दिनकर दीमकर ने पुणे नगर निगम (पीएमसी) को मामले की जांच करने का निर्देश दिया है. पीएमसी के शिक्षा बोर्ड ने मामले की जांच के लिए दो अधिकारियों को नियुक्त किया है. Also Read - स्किन कलर इनरवियर पहनने के फरमान को स्कूल ने लिया वापस, जारी होगी नई डायरी

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, स्कूल ने छात्राओं को सफेद और बेज रंग के इनरवियर पहनने का निर्देश जारी कर दिया. इतना ही नहीं, स्कूल प्रशासन ने लड़कियों के स्कर्ट की लंबाई भी तय कर दी. स्कूल का कहना है कि स्टूडेंट्स और उनके पेरेंट्स इस नियम को फॉलो नहीं करेंगे तो उनपर कार्रवाई होगी. महाराष्ट्र सरकार ने मामले की जांच के निर्देश दिए हैं.

स्कूल के निर्देश के बाद इस मामले ने तूल पकड़ लिया है. कई पेरेंट्स ने इसपर आपत्ति जताई है. वहीं, स्टूडेंट्स के बीच भी यह चर्चा का विषय बना हुआ है. स्कूल की खबर बाहर आने के बाद सोशल साइट्स पर भी इसे लेकर प्रतिक्रिया जारी है. लोग स्कूल के इस निर्देश को तुगलकी फरमान बता रहे हैं.