Punjab Congress Crisis: पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे चुके नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने गुरुवार को संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल और वरिष्ठ नेता हरीश रावत (Harish Rawat) से मुलाकात की. सिद्धू ने दोनों नेताओं को उन मुद्दों से अवगत कराया जिनको लेकर उन्होंने पिछले दिनों पद छोड़ा था. सूत्रों का कहना है कि 24 अकबर रोड़ (कांग्रेस मुख्यालय) पर करीब सवा घंटे तक चली बैठक में पंजाब सरकार और संगठन से जुड़ों पर चर्चा हुई तथा सहमति बनाने का प्रयास हुआ ताकि चुनाव से पहले पूरी पार्टी एकजुट होकर मैदान में उतर सके.Also Read - गौतम गंभीर की केजरीवाल की अयोध्‍या यात्रा पर तंज- दिल्‍ली के CM राम जन्मभूमि पर पूजा कर अपने पाप धोने का प्रयास कर रहे

Also Read - UP कांग्रेस के नेता राजेश पति त्र‍िपाठी और उनके बेटे ललितेश पति त्र‍िपाठी TMC में शामिल हुए

बैठक के बाद मीडियाकर्मियों से बात करते हुए सिद्धू ने कहा, ‘मैंने पंजाब और पंजाबियों से जुड़ी चिंताओं से पार्टी आलाकमान को अवगत कराया है. मुझे कांग्रेस अध्यक्ष, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी में पूरा विश्वास है. वो जो भी फैसला करेंगे, वो कांग्रेस और पंजाब के हित में होगा. मैं उनके निर्देशों का पालन करूंगा.’ Also Read - UP: मायावती सरकार में मंत्री रहे BSP के दो पूर्व नेता लालजी वर्मा, रामअचल राजभर ने SP में किया शामिल होने का ऐलान

उधर, बैठक के बाद रावत ने कहा, ‘सिद्धू और मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी जी बातचीत कर चुके हैं. कुछ चीजें ऐसी होती हैं जिनमें समय लगता है….कांग्रेस अध्यक्ष का फैसला सबको स्वीकार होगा.’ उन्होंने कहा कि, सिद्धु ने साफ तौर पर कहा कि माननीय सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी का आदेश उनको सर्वमान्य होगा. आदेश बिल्कुल साफ है कि वे प्रदेश कांग्रेस कमेटी पंजाब के अध्यक्ष के रूप में अपना काम पूरी शक्ति से करें. कल आपको इससे बड़ी सूचना विधिवत तरीके से मिलेगी.

मालूम हो कि सिद्धू ने 28 सितंबर को कांग्रेस की पंजाब इकाई के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखे पत्र में सिद्धू ने कहा था कि वह पार्टी की सेवा करना जारी रखेंगे. उन्होंने पत्र में लिखा था, ‘किसी भी व्यक्ति के व्यक्तित्व में गिरावट समझौते से शुरू होती है, मैं पंजाब के भविष्य और पंजाब के कल्याण के एजेंडे को लेकर कोई समझौता नहीं कर सकता हूं.’ कांग्रेस आलाकमान ने अब तक सिद्धू का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया है.

पिछले दिनों कैप्टन अमरिंदर सिंह के मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद चरणजीत सिंह चन्नी को यह जिम्मेदारी सौंपी गई थी. उस दौरान यह भी चर्चा थी कि सिद्धू मुख्यमंत्री चन्नी की कार्यशैली को लेकर भी खुश नहीं हैं, हालांकि कांग्रेस के सूत्र इससे इनकार करते हैं. कांग्रेस सूत्रों ने यह भी बताया कि फिलहाल सिद्धू के दिल्ली दौरे के दौरान कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से उनकी मुलाकात का कोई कार्यक्रम तय नहीं है.

(इनपुट; ANI,भाषा)