अमृतसर. गोविंद सिंह लोंगोवाल को शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक समिति का नया प्रधान चुना गया है. गुरूद्वारा प्रबंधक समिति के चुनाव में गोविंद सिंह लोंगोवाल को 154 वोट मिले. वहीं उनके प्रतिद्वंद्वी अमरीक सिंह को मात्र 15 वोट मिले. इस प्रचंड जीत के बाद अब लोंगोवाल प्रो. कृपाल सिंह बंडूगर का स्‍थान लेंगे. Also Read - Video: पंजाब में कोरोना के खिलाफ जंग के असली हीरो का हुआ सम्मान, किसी ने बरसाए फूल तो किसी ने पहनाई माला

बीबी जागीर कौर ने लोंगोवाल के नाम का प्रस्ताव पेश किया था. वहीं अमरीक सिंह के नाम को विरोधी पक्ष ने पेश किया था. लोंगोवाल शिरोमणि अकाली दल अध्‍यक्ष सुखबीर सिंह बादल के बेहद करीबी लोगों में माने जाते हैं. लोंगोवाल अकाली सरकार में मंत्री और तीन बार विधायक हैं. वहीं तीन बार लगातार अध्यक्ष रहे कृपाल सिंह बडूंगर को इस बार भी जीत की उम्मीद थी. लेकिन उन्हें निराशा हाथ लगी.

Padmavati: BJP leader surajpal amu resigns from party post, fumes at CM ML Khattar | पद्मावती: सूरजपाल अमू ने दिया इस्तीफा, खट्टर को बताया अड़ियल सीएम

Padmavati: BJP leader surajpal amu resigns from party post, fumes at CM ML Khattar | पद्मावती: सूरजपाल अमू ने दिया इस्तीफा, खट्टर को बताया अड़ियल सीएम

गोबिन्द सिंह लोंगोवाल

18 अक्तूबर 1956 गोबिन्द सिंह लौंगोवाल का जन्म संगरूर के गांव लोंगोवाल में हुआ था. लोंगोवाल अकाली दल के प्रधान रहे संत हरचंद सिंह लोंगोवाल के शिष्य थे. जिसके बाद उनके गुरु ने उन्हें अपना पदभार संभालने की जिम्मेदारी सौंपी. लोंगोवाल धनौला से पहली बार साल 1985 में शिअद के विधायक चुने गए. उसके बाद तीन बार जीत यहां से हासिल की लेकिन उन्हें साल 2007 में हार का मुंह देखना पड़ा था.