नई दिल्ली: केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि विधेयकों के विरोध में पंजाब और हरियाणा में व्यापक रूप से विरोध प्रदर्शन देखने को मिल रहा है. पंजाब और हरियाणा के हजारों किसान कृषि बिल के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं. किसानों के विरोध प्रदर्शन का आज तीसरा दिन है. पहले और दूसरे दिन जहां किसानों ने रेलवे ट्रैक प्रदर्शन किया था वहीं आज अब किसान रेलवे लाइन के साथ साथ सड़कों पर भी उतर आए हैं. किसानों का रेल रोकों आंदोलन अभी भी जारी है. किसानों ने अब अपने आंदोलन को तीन दिन आगे बढ़ाने का ऐलान किया है.Also Read - Farmers Protest: राकेश टिकैत ने भारत की जांच एजेंसियों पर उठाए सवाल, UN जाने के पक्ष में बोले

आपको बता दें कि पंजाब हरियाणा के किसान समिति ने कृषि बिल के विरोध में 24 से लेकर 26 सितंबर तक रेल रोको आंदोलन चलाया है. इसी के साथ साथ किसानों ने भारत बंद का भी आहवाहन किया है. प्रदर्शनकारियों ने रेलवे ट्रैक पर ही टेंट लगाकर रात गुजारी. वहीं राज्य की सड़कों पर भी कृषि बिल को लेकर विरोध प्रदर्शन किया गया. Also Read - Punjab News: कृषि कानूनों के खिलाफ हर शहीद के परिवार को देंगे सरकारी नौकरी, सुखबीर बादल बोले- चुनाव जीते तो PG तक पढ़ाई भी मुफ्त

Also Read - कृषि कानूनों पर शरद पवार की बात से सहमत हुई केंद्र सरकार, कृषि मंत्री बोले- तैयार हैं हम

किसान बिल को लेकर पंजाब हरियाणा सहित देश के कई हिस्सों में किसानों का गुस्सा देखने को मिल रहा है. गुरुवार को जहां एक ओर विरोध प्रदर्शन की वजह से रेलवे सेवाएं बाधित हुईं वहीं आज माना जा रहा है किसान राष्ट्रीय राजमार्गों पर भी अपना प्रदर्शन करेंगे. बड़े पैमानें पर प्रोटेस्ट की वजह से केंद्र और राज्य सरकारों ने सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हैं.

किसानों के इस समर्थन में कई राजनीतिक दलों के नेता भी उनके साथ नजर आएं. वहीं पीएम मोदी ने कई बार किसानों के कहा कि यह बिल उनकी भलाई के लिए है और इससे किसी भी तरह से देश के किसी किसान को कोई नुकसान नहीं होगा.