चंडीगढ़ : पंजाब के मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी द्वारा एक महिला अधिकारी को कथित रूप से अनुचित संदेश भेजने के कारण उन्हें हटाने की विपक्ष की मांगों के बीच मंत्री ने मंगलवार को कहा कि उन्हें निशाना बनाया जा रहा है. चन्नी ने दावा किया कि दलित होने के चलते विपक्षी पार्टियां उनके इस्तीफे की मांग कर रही हैं.

चन्नी पर कुछ सप्ताह पहले एक महिला अधिकारी ने आरोप लगाया था. चन्नी विदेश से लौटने के बाद पहली बार मीडिया से बात कर रहे थे. उन्होंने मामले को कमतर करने का प्रयास करते हुए कहा कि उन्होंने महिला को संदेश ‘‘गलती’’ से भेज दिया था. उन्होंने कहा, ‘‘मैं हमेशा ही महिलाओं का सम्मान करता हूं…मेरे कार्यालय में दो निजी सचिव, मेरे विधानसभा क्षेत्र में तीन ब्लॉक अध्यक्ष महिलाएं हैं और मैंने उन्हें हमेशा सम्मानजनक तरीके से संबोधित किया है.’’

मिशन 2019: पश्चिम बंगाल के लिए BJP का महा प्‍लान, ऐसे लगाएगी ममता के वोटों में सेंध

उन्होंने दावा किया कि महिला ने उनकी माफी स्वीकार कर ली है. उन्होंने कहा कि उसके बाद मामला खत्म हो गया. उन्होंने मुद्दे को तूल देने के लिए शिरोमणि अकाली दल को जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने कहा, ‘‘मुझे इसलिए निशाना बनाया जा रहा है क्योंकि मैं एक दलित हूं और मैं राज्य में दलितों से संबंधित मुद्दे उठाता रहा हूं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुख्यमंत्री सर्वोच्च हैं…हम मुख्यमंत्री के दिशानिर्देश में कार्य करते हैं…यदि वह मेरे खिलाफ कोई निर्णय करते हैं तो वह मुझे स्वीकार होगा.’’

अयोध्‍या भूमि विवाद मामले की सुनवाई टलने को लेकर बोले योगी, ‘न्याय में देरी से होती है निराशा’

इस बीच शिरोमणि अकाली दल ने मंत्री को हटाने की अपनी मांग दोहरायी. पार्टी महासचिव दलजीत सिंह चीमा ने कहा कि मंत्री के कृत्य ने उनकी नैतिकता पर सवालिया निशान लगा दिया है.