चंडीगढ़: पंजाब में विपक्षी पार्टियों ने एक महिला सरकारी अधिकारी को कथित तौर पर अनुचित संदेश भेजने को लेकर राज्य के एक कैबिनेट मंत्री के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की बुधवार को मांग की. शिअद और आप ने मांग की है कि आरोपी मंत्री को बर्खास्त कर दिया जाए. हालांकि, मंत्री के नाम का खुलासा नहीं किया गया है. Also Read - दिल्ली में कोरोना क्यों बना काल? केंद्र सरकार ने दिया जवाब- केजरीवाल सरकार की बताई गलती

Also Read - Night Curfew In Delhi: दिल्ली में भी लगाया जा सकता है नाइट कर्फ्यू, केजरीवाल सरकार ने दिए संकेत

मीडिया में आई खबर के खबर के मुताबिक मंत्री ने अधिकारी को शुरू में संदेश भेजे थे. महिला ने एक महीने पहले मंत्री द्वारा एक बार फिर से संदेश भेजे जाने के बाद उनके खिलाफ एक शिकायत दर्ज कराई थी. शिअद प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने मुख्यमंत्री से अपने उस कैबिनेट सहकर्मी को बेनकाब करने को कहा है. Also Read - #DelhiCollapse: ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा दिल्ली कोलैप्स, यूजर बोले- लोग मर रहें, 'AAP' सो रही है

हलाला पर देवबंद का फतवा, कहा- इस्लाम में लानत है ये प्रथा, औरत को मर्जी से दूसरे निकाह का हक

उन्होंने कहा कि यह हैरान करने वाला है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस विषय पर चुप हैं जबकि उन्हें शिकायत के बारे में कथित तौर पर अवगत कराया गया था. बादल ने यहां एक बयान में कहा कि राहुल को यह स्पष्ट करना चाहिए कि क्या वह पंजाब के मुख्यमंत्री के साथ इस मामले को ढंकने के कार्य में शामिल हैं? शिअद नेता ने कहा कि महिला अधिकारी को एक औपचारिक शिकायत दर्ज कराने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए.

1 अप्रैल, 2020 से देश में बीएस-4 वाहनों की बिक्री बंद, वाहन निर्माताओं की अनिच्छा पर सुप्रीम कोर्ट की झिड़की

सुखपाल सिंह खैरा के नेतृत्व वाले आप के बागी गुट के सदस्य एवं विधायक कंवर संधू ने कहा कि इस घटना की जांच होनी चाहिए और मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए. एक बयान में आप की महिला शाखा की प्रमुख राज लाली गिल ने अमरिंदर से मंत्री के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की. बहरहाल, कांग्रेस नेताओं और पंजाब सरकार के अधिकारियों की टिप्पणी के लिए उनसे संपर्क नहीं हो सका.