चंडीगढ़ः पंजाब पुलिस ने शुक्रवार को तीन लोगों को चीन निर्मित दो ड्रोन के साथ गिरफ्तार किया. इनमें एक सैनिक व दो तस्कर शामिल हैं जिनका संबंध एक ऐसे नार्को-आतंकी माड्यूल से है जो भारत-पाकिस्तान सीमा पर हथियारों व नशीले पदार्थो की तस्करी में संलिप्त है. इसके साथ ही पुलिस ने ड्रोन बैटरी, ड्रोन कंटेनर, दो वॉकी-टॉकी सेट, 6.22 लाख रुपये नकद और एक आईएनएसएएस राइफल की मैगजीन भी बरामद की है.

पुलिस महानिदेशक दिनकर गुप्ता ने यहां मीडिया को बताया कि ये ड्रोन सीमा के दोनों ओर दो से तीन किलोमीटर की उड़ान भरने में सक्षम हैं. उन्होंने बताया कि ये कथित तौर पर नशीले पदार्थों की खेप लाने के लिए भारतीय सीमा की ओर से पाकिस्तान की तरफ छोड़े गए थे.

गुप्ता के साथ ही अतिरिक्त डीजीपी आर. एन. ढोके, महानिरीक्षक बॉर्डर रेंज, एस. पी. एस. परमार और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ध्रुव ढैया ने कहा कि यह पहली बार पता चला है कि ड्रोन का उपयोग नशीले पदार्थों की तस्करी के लिए किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि हालांकि अभी तक कोई मादक पदार्थ बरामद नहीं हुआ है.

उन्होंने कहा कि मॉड्यूल के सदस्यों ने खुलासा किया है कि वे पिछले कुछ महीनों से सीमा पार से ड्रोन की मदद से हथियारों व ड्रग्स की तस्करी में शामिल रहे हैं. उन्होंने कहा कि कुछ पाकिस्तान स्थित ड्रग तस्कर, जो पाकिस्तान से सीमा पार से ड्रग्स और हथियार भेज रहे हैं, उनके बारे में भी पता चला है. इस मामले में धरमिंदर सिंह, राहुल चौहान (सैनिक) और बलकार सिंह को गिरफ्तार किया गया है.