नई दिल्ली: पंजाब पुलिस का अमानवीय चेहरा सामने आया है. आरोप है कि पुलिस वालों ने एक आरोपी की पत्नी को जीप की छत पर बांध कर घुमाया और अंत में सड़क किनारे फेंक कर फरार हो गए. मामला अमृतसर के चाविंडा देवी गांव का है. घटना का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस की इस करतूत पर सवाल उठ रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस मजीठा के चविंडा देवी गांव में एक आरोपी को पकड़ने गई थी. आरोप है कि जब वह घर में नहीं मिला तो पुलिस ने उसकी पत्नी के साथ बदसलूकी की. इस दौरान पुलिसकर्मियों की महिला से कहासुनी हो गई. महिला का आरोप है कि पुलिस बिना किसी वजह के उसके पति को गिरफ्तार करने घर पहुंची थी. उसने जब इसका विरोध किया तो पुलिसवालों ने उसके साथ दुर्व्यवहार किया. कहासुनी के बाद पुलिसकर्मी महिला को अपने साथ ले गए और अपनी गाड़ी की छत पर बांध दिया. इसके बाद उन्होंने उसे पूरे गांव में घुमाया.

पुलिस की इस मनमानी के बीच गांव के लोग भी जुट गए. बताया जा रहा है कि पीड़िता गाड़ी से गिर भी गई थी, जिससे उसे चोटें आई हैं. आखिर में लोगों के गुस्से को भांपते हुए पुलिसकर्मी पीड़िता को छोड़कर चले गए. पीड़िता को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इस वीडियो के सामने आने के बाद पंजाब पुलिस के कामकाज के तरीके पर सवाल उठ रहे हैं. विपक्षी पार्टी शिरोमणि अकाली दल ने राज्य में बढ़ती इस तरह की घटनाओं के लिए कांग्रेस सरकार को दोषी ठहराया है. गौरतलब है कि इस महीने की शुरुआत में संगरूर शहर में अपनी पत्नी के साथ एक प्रमुख एसएडी कार्यकर्ता को गोली मार दी गई थी. कुछ दिन पहले ही उत्तर प्रदेश के मेरठ में मेडिकल की एक छात्रा को महिला कॉन्स्टेबल को थप्पड़ मारते हुए वीडियो वायरल हुआ था.

गौरतलब है कि कश्मीर में कथिततौर पर पत्थरबाजों को रोकने के लिए सेना के एक जवान ने एक कश्मीरी युवक को जीप की बोनट पर बांधकर घुमाया था. 28 साल के बुनकर डार 9 अप्रैल 2017 को सेना द्वारा जीप पर बांधकर घुमाए जाने के बाद अभी अपनी सामान्य जिंदगी में लौटने के लिए जूझ रहे हैं. सेंट्रल कश्मीर के बड़गाम में रहने वाले फारूक अहमद डार ने उस दिन हो रहे उपचुनाव में अपना वोट डाले और इसके बाद वह पड़ोस के गांव में अपने एक रिश्तेदार के यहां हुई एक मौत के बाद लौट रहे थे, जब उन्हे रोक कर उसकी बजाज पल्सर बाइक से उतरने को कहा गया. डार के हाथ रस्सी से बांधकर सेना की जीप के बोनट पर बांधा गया. करीब 6 घंटों तक उन्हें उस इलाके के कई गांवों में घुमाया गया.