कपूरथला (पंजाब): पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने दीनानगर में सोमवार के आतंकवादी हमले में शहीद हुए वरिष्ठ पुलिस अधिकारी बलजीत सिंह के परिजनों से बुधवार को मुलाकात की। यह भी पढ़े:पंजाब हमला : सीसीटीवी फुटेज में हथियारों से लैस दिखे आतंकवादी Also Read - Sardool Sikander Dies: पंजाबी गायक Sardool Sikander का निधन, कोरोना वायरस से थे संक्रमित

Also Read - Delhi में 5 राज्‍यों के लोगों की एंट्री पर नियम सख्‍त, प्रवेश करने पर दिखानी होगी Covid-19 की Negative Test Report

उन्होंने उन्हें हरसंभव मदद का आश्वासन दिया और पंजाब पुलिस की प्रशंसा भी की। पुलिस अधीक्षक बलजीत सिंह (48) को आतंकवादियों से मुकाबले के दौरान सिर में गोली लगी थी। वह राज्य में गुरदासपुर जिले के दीनानगर में हुए आतंकवादी हमले में शहीद होने वाले पंजाब पुलिस के वरिष्ठतम अधिकारी हैं। Also Read - COVID-19 in India: भारत में कोरोना की दूसरी लहर खतरनाक, चार राज्यों में फिर लगेगा Lockdown?

बादल ने हमले में शहीद हुए होमगार्ड के तीन अन्य जवानों के साहस की भी सराहना की। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, “देश को शहीद पुलिसकर्मियों पर गर्व है, जिन्होंने दूसरे लोगों की जान बचाने के लिए अपनी जान न्यौछावर कर दी।” शहीद पुलिस अधिकारी बलजीत सिंह के परिजनों ने उनके तीनों बच्चों के लिए अनुकंपा के आधार पर सरकारी नौकरी की मांग की। इस बारे में पूछे जाने पर बादल ने कहा, “मैं राज्य का मुख्यमंत्री होने के नाते अपनी जिम्मेदारी पूरी करूंगा।”

उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि बलजीत सिंह के परिवार ने उनके समक्ष नौकरी से संबंधित कोई मुद्दा नहीं उठाया। इससे पहले वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के परिजनों ने नौकरी से संबंधित अपनी मांगें रखते हुए उनका अंतिम संस्कार करने से इंकार कर दिया था। उन्होंने बलजीत सिंह के बेटे के लिए पुलिस अधीक्षक श्रेणी के पद और दोनों बेटियों के लिए नायब तहसीलदार (राजस्व अधिकारी) पद की नौकरी देने की मांग की है।

गुरदासपुर में पुलिस की खुफिया शाखा के प्रमुख बलजीत सिंह का बुधवार को पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाना है। राज्य सरकार ने शहीद पुलिस अधिकारी और होमगार्ड के परिजनों को 10-10 लाख रुपये और हमले के दौरान आतंकवादियों की गोलियों का निशाना बने आम नागरिकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की है।