चंडीगढ़ः पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने अपनी सरकार के कर्ज राहत कार्यक्रम के पहले चरण के तहत अगले 10 दिन में सहकारी समिति के सदस्य 38000 किसानों के लिए 209 करोड़ रुपये जारी करने की आज घोषणा की. मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले चरण में अब तक 2,77,633 सीमांत किसानों को 1,525.61 करोड़ रूपये की राहत दी गयी है. उन्होंने कहा कि रकम सीधे किसानों के खाते में भेजी गयी है. Also Read - ऊनी कपड़ों की बिक्री से उद्योग में रिकवरी, मांग पिछले साल से 40 फीसदी कम

सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी ने राज्य में चुनाव से पूर्व कर्ज से लदे किसानों को राहत प्रदान करने का वादा किया था. सिंह ने कहा कि सहकारी समितियों के सदस्य कुल 3.43 लाख सीमांत किसानों में 27,179 इसके लिए अयोग्य पाए गए क्योंकि वे या तो सरकारी या अर्द्धसरकारी कर्मचारी के तौर पर काम कर रहे थे या अर्हता को पूरा नहीं कर पाए. Also Read - Farmers Protest: पंजाब के मंत्री का बड़ा आरोप, 'एनआईए ने किसान आंदोलन के समर्थकों को नोटिस भेजा'

उन्होंने बयान में कहा कि 19,706 किसानों ने आवश्यक स्व घोषित फार्म जमा करने से मना कर दिया. बाकी 38,000 किसानों को अगले 10 दिनों में कर्ज राहत प्रदान की जाएगी. सिंह ने कहा कि अगर कोई योग्य किसान छूट जाता है तो वह इलाके के सब डिविजनल मजिस्ट्रेट से संपर्क कर सकता है. Also Read - अगले चरण में कोरोना टीका लगवाएंगे अमरिंदर सिंह, भारत सरकार के दिशा-निर्देशों का करेंगे पालन

मुख्यमंत्री ने कहा कि दूसरे चरण में सहकारी समितियों से जुड़े छोटे किसानों के लिए राहत जारी की जाएगी. किसानों के पास उपलब्ध भूमि के आधार पर सीमांत किसान और छोटे किसान समेत अन्य किसान की श्रेणी बनायी जाती है.