लखनऊ| उत्तर प्रदेश में रायबरेली के ऊंचाहार स्थित नेशनल थर्मल पॉवर कॉरपोरेशन (एनटीपीसी) के संयंत्र में बॉयलर फटने से 26 लोगों की जान चली गई. इस हादसे में 70 से ज्यादा लोग घायल हो गए. घायलों को जिला अस्पताल के साथ-साथ इलाहाबाद के अस्पताल और लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया है. इनमें से कई की हालत नाजुक है. इस बीच, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी घायलों का हालचाल लेने के लिए रायबरेली पहुंच गए हैं.

ख़बरों के अनुसार जिस वक्त यह हादसा हुआ, उस वक्त वहां करीब 150 मजदूर काम कर रहे थे. जिस किसी ने भी इस भयानक हादसे को अपनी आंखों से देखा वह भयावह मंजर को भूल नहीं पा रहे हैं. एक हिंदी समाचार चैनल की खबर के मुताबिक हादसे के वक्त मौजूद एक शख्स ने बताया कि प्लांट में ब्लास्ट स्टीम पाइप फटने की वजह से हुआ.

रायबरेली NTPC हादसा: बॉयलर फटने से 22 की मौत, 200 झुलसे, आज पहुंचेंगे राहुल गांधी

रायबरेली NTPC हादसा: बॉयलर फटने से 22 की मौत, 200 झुलसे, आज पहुंचेंगे राहुल गांधी

वहीं, एक अन्य व्यक्ति ने बताया कि ब्लास्ट होने के बाद पाइप के पास काम कर रहे लोगों के चीथड़े उड़ गए. जो भी मजदूर ब्लास्ट की चपेट में नहीं आए उनके शरीर पर राख लावे की तरह गिरी. हर कोई अपनी जान बचाने के प्रयास में जुटा हुआ था. ब्लास्ट के बाद प्लांट में लाशें जगह-जगह पड़ी थी. लोग जान बचाने के लिए लाशों के ऊपर से चढ़कर भाग रहे थे.

एनटीपीसी हादसा के बाद केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने यूपी के स्वास्थ्य मंत्री सिद्घार्थनाथ सिंह ने पूरे मामले से जानकारी ली है. दुर्घटना को लेकर उन्होंने ट्वीट किया है कि एनटीपीसी हादसा दुखद है. मामले में केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव लगातार उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य अधिकारियों से संपर्क में हैं.

रायबरेली जिले के ऊंचाहार स्थित एनटीपीसी संयंत्र में बॉयलर फटने से मरने वालों की संख्या बढ़कर 26 हो गयी है. मुख्य चिकित्सा अधिकारी डी. के. सिंह ने बताया कि बॉयलर फटने से बुधवार रात 6 और लोगों की मौत के साथ इस हादसे में मरने वालों की संख्या 22 हो गई थी, जो बाद में बढ़कर 26 तक पहुंच गई. बुधवार तक 16 लोगों के मरने की पुष्टि हुई थी.