नई दिल्ली: फ्रांस से कल 5 राफेल लड़ाकू विमानों ने उड़ान भरा, 29 जुलाई के दिन ये लड़ाकू विमान भारत के अंबाला एयरबेस पर पहुंचेगे. इस कारण अबाला एयरबेस के आस-पास व्यवस्था चाक चौबंद रखी गई है. यहां एयरबेस को भी राफेल को लिए पूरी तरह तैयार कर लिया गया है. राफेल के आने से पहले अंबाला एयरबेस में सुरक्षा व्यवस्था तगड़े कर लिए गए हैं. इस कारण अबाला एयरबेस के 3 किलोमीटर तक के दायरे को नो ड्रोन जोन घोषित किया गया है.Also Read - Submarine Deal Issue: उत्‍तर कोरिया ने अमेरिका को दी जवाबी कार्रवाई की चेतावनी

बता दें कि ऐसा सुरक्षा कारणों से किया गया है. साथ ही सुरक्षा के भी बंदोबस्त किए गए हैं. इसी कारण एयरबेस के 3 किलोमीटर के दायरे में किसी भी तरह के ड्रोन को संचालित किए जाने की अनुमति नहीं है. ऐसा करने पर आरोपी के खिलाफ एक्शन लिया जा सकता है. इस बाबत अंबाला छावनी के डीएसपी राम कुमार ने कहा कि अंबाला के लिए यह गर्व की बात है कि राफेल के 5 लड़ाकू विमान अंबाला एयरबेस पर आ रहे हैं. इस दौरान किसी ने भी नियमों का उल्लंघन किया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी Also Read - फ्रांस ने अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया से अपने राजदूत वापस बुलाए, इस वजह से रिश्‍ते में आई बड़ी दरार

बता दें कि भारत चीन सीमा विवाद के बाद भारतीय रक्षा राजनाथ सिंह ने फ्रांस से राफेल लड़ाकू विमानों के बाबत बात की थी. इस दौरान 5 लड़ाकू विमानों को भारत को देने पर सहमित बनी. बता दे कि कुल 36 राफेल विमानों की डील भारत सरकार ने 2016 में की थी.यह राफेल की पहली खेप है जिसमें लड़ाकू विमानों को भारत को दिया गया है. Also Read - Kabul Airport Update: अमेरिकी सैनिकों ने एयरपोर्ट के 3 गेट समेत कुछ इलाका छोड़ा, अब तालिबान का कब्‍जा