नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला जारी रखते हुए मंगलवार को कहा कि भारत में लोकतंत्र रो रहा है, क्योंकि सरकारी अधिकारी सीबीआई में दखल दे रहे हैं. ताजा खुलासे में सामने आया है कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल ने एजेंसी से जुड़े एक मामले में दखल देने की कोशिश की थी. Also Read - How To Contact PM Modi: आप भी करना चाहते हैं PM Modi से बात? ये है उनका फोन नंबर, ई-मेल और पता

Also Read - World Wildlife Day: PM Modi ने पर्यावरण के लिए काम करने वालों की सराहना की, कही ये बात

राहुल ने ट्वीट किया, “दिल्ली में ‘चौकीदार चोर है’ नामक एक क्राइम थ्रिलर चल रहा है. नए एपिसोड में सीबीआई के डीआईजी ने एक मंत्री, एनएसए, विधि सचिव और कैबिनेट सचिव के खिलाफ गंभीर आरोप लगाए हैं.” Also Read - PM Narendra Modi Reaction After Vaccination: वैक्सीन लगाने के बाद पीएम ने दिया ये रिएक्शन- लगा भी दिया...

राहुल गांधी को ‘जादू दिखाने’ वाला शख्स, आज कैसे बन गया कांग्रेस का ‘चाणक्य’

राहुल ने मोदी पर अपने कटाक्ष ‘चौकीदार चोर है’ को दोहराते हुए हमला किया. राहुल ने यह हमला ऐसे समय में किया है, जब सुप्रीम कोर्ट में सीबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने डोभाल सहित सरकार के शीर्ष अधिकारियों पर आरोप लगाया है कि सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ जांच में उन सभी ने दखल किया था.

CBI विवाद: अस्थाना के खिलाफ जांच कर रहे अधिकारी का ट्रांसफर, आदेश रद्द करने को सुप्रीम कोर्ट से लगाई गुहार

राहुल गांधी ने कहा, “गुजरात से लाया गया उनका साथी करोड़ों रुपये की उगाही कर रहा है. अफसर थक गए हैं. भरोसा टूट चुका है.” राहुल ने परोक्ष रूप से अस्थाना का संदर्भ देते हुए कहा, “लोकतंत्र रो रहा है.”

अस्थाना पर सीबीआई ने मांस कारोबारी मोईन कुरैशी से एक मामले में रिश्वत लेने का अभियोग लगाया है. राहुल की हालिया टिप्पणी सीबीआई अधिकारी एम.के. सिन्हा के डोभाल व केंद्रीय सर्तकता आयुक्त के.वी.चौधरी के अस्थाना के खिलाफ जांच में दखल देने के आरोप के मद्देनजर आया है. अस्थाना रिश्वत के आरोपों का सामना कर रहे हैं.

सीबीआई रिश्‍वत कांड: केंद्रीय मंत्री हरिभाई चौधरी का आरोपों से इंकार, कांग्रेस ने की जांच की मांग

डीआईजी रैंक के अधिकारी सिन्हा, जो पहले अस्थाना के मामले की जांच कर रहे थे, उनका अचानक केंद्र सरकार ने तबादला कर नागपुर भेज दिया. सिन्हा ने यह भी आरोप लगाया कि केंद्रीय कोयला व खदान राज्य मंत्री हरिभाई पार्थीभाई चौधरी को कुछ करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है.