नई दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शुक्रवार को केंद्र द्वारा घोषित कर प्रोत्साहनों पर निशाना साधा और कहा कि यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अमेरिका दौरे से पहले शेयर बाजार को उछाल देने के उद्देश्य से किया गया है. मोदी अमेरिका में कई विदेशी निवेशकों से मुलाकात करने वाले हैं. सरकार की तरफ से कॉर्पोरेट कर में की गई कटौती और अन्य राहतों से सरकारी खजाने को 1,45,000 करोड़ रुपये का नुकसान होगा, जिसपर निशाना साधते हुए राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री का दौरा अबतक का विश्व का सबसे महंगा समारोह साबित होने जा रहा है.

 

उन्होंने ट्वीट किया कि अपने ‘हाउडीइंडियनइकोनॉमी’ तमाशे के लिए शेयर बाजार को उछाल देने के लिए मोदी ने जो किया, वह शानदार है. 1.4 लाख करोड़ रुपये से अधिक खर्च के साथ ह्यूस्टन समारोह दुनिया का सबसे महंगा समारोह है. लेकिन कोई भी समारोह आर्थिक संकट के सच को नहीं छुपा सकता, जिसमें ‘हाउडीमोदी’ ने भारत को डाल दिया है. उल्लेखनीय है कि इससे पहले, वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को अन्य वित्तीय राहत के अलावा घरेलू कंपनियों के लिए कार्पोरेट कर में कटौती कर उसे 22 प्रतिशत करने और नई घरेलू विनिर्माण कंपनियों के लिए 15 प्रतिशत करने की घोषणा की थी.

सरकार ने कॉरपोरेट को दी Rs.1.45 लाख करोड़ की राहत, सेंसेक्‍स 1900 अंक से ज्‍यादा उछला

इन कंपनियों के लिए अधिभार और उपकर समेत प्रभावी कर दर अब 25.17 प्रतिशत होगी. इसके अलावा इन कंपनियों को न्यूनतम वैकल्पिक कर(मैट) भी चुकाने की जरूरत नहीं होगी. कॉर्पोरेट कर की दर में कमी की वजह से करीब 1,45,000 करोड़ रुपये के राजस्व नुकसान का अनुमान है. मंदी से लड़ने के लिए मोदी 2.0 सरकार द्वारा यह अबतक की सबसे बड़ी घोषणा है. मौजूदा वित्तीय वर्ष की अप्रैल-मई तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर घटकर छह वर्ष के अपने सबसे निचले स्तर पांच फीसदी पर आ गई है.

बैंक, NBFC बांटेंगे लोन, खुली बैठकें कर लोगों को उपलब्ध कराएंगे नकदी: निर्मला सीतारमण

अपने 21-27 सितंबर के अमेरिकी दौरे के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से वार्ता करने के अलावा विभिन्न उद्योगों के दिग्गजों से मुलाकात भी करेंगे. सूत्रों ने बताया है कि मोदी 21 सितंबर को ह्यूस्टन में सीईओ गोलमेज सम्मेलन की अध्यक्षता करेंगे, जहां बीपी, एक्समोबाइल, इमर्सन इलेक्ट्रिक कंपनी, निमार इंटरनेशनल और आईएचएस मार्किट के शीर्ष अधिकारी चर्चा में शामिल होंगे. प्रधानमंत्री 21 से 27 सितंबर तक अमेरिका के दौरे पर होंगे. वह न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करने के अलावा ह्यूस्टन में भारतीय मूल के अमेरिकियों की एक रैली में भी शामिल होंगे. (इनपुट एजेंसी)