नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज ओबीसी के मुद्दे पर नरेंद्र मोदी सरकार को घेरा. राहुल ने सरकार पर ओबीसी वर्ग की उपेक्षा करने का आरोप लगाया. राहुल गांधी ने आज यहां पार्टी के ओबीसी सम्मेलन में यह भी कहा कि कांग्रेस में अन्य पिछड़े वर्ग के लोगों को उचित हिस्सेदारी दी जाएगी. उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान में ऐसी स्थिति बना दी गई है कि जो काम करता है वो पीछे रहता है. काम कोई करता है और फायदा किसी और को होता है. जो हुनरमंद है और जो खून-पसीना बहाता है उसे सम्मान नहीं मिलता है. Also Read - हाथरस: गैंग रेप की शिकार दलित लड़की की मौत, कांग्रेस ने प्रधानमंत्री की ‘खामोशी’ पर सवाल उठाया; विपक्ष हुआ हमलावर

किसानों को नहीं दिया एक रुपया Also Read - हिंदुस्तान के भविष्य के लिए कृषि कानूनों का विरोध करना होगा: राहुल गांधी

उन्होंने आरोप लगाया कि किसानों को प्रधानमंत्री ने एक रुपया नहीं दिया. 15 उद्योगपतियों का कर्जा माफ किया. किसान आत्महत्या कर रहे हैं. लेकिन उनके कर्ज माफ नहीं किये जा रहे हैं. मोदी जी कहते हैं कि युवाओं को कौशल सिखाना है, लेकिन सच्चाई है कि देश मे हुनर की कोई कमी नहीं है. ओबीसी के पास हुनर की कोई कमी नहीं है. बस उनके हुनर को सम्मान नहीं मिल रहा है. उन्होंने कहा कि बीजेपी में ओबीसी की बात नहीं सुनी जाती है, लेकिन कांग्रेस में सबको सम्मान दिया जाता है. Also Read - किसानों से राहुल गांधी की बातचीत, बोले- BJP वाले अंग्रेजों के साथ खड़े...

देश बांट रहे हैं संघ के लोग

राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि आरएसएस के लोग देश को बांटने में लगे हैं. वे ओबीसी को बांटने में लगे हैं. उन्होंने दावा किया कि हिंदुस्तान बीजेपी के दो-तीन नेताओं और आरएसएस का गुलाम बन गया है. गांधी ने कहा कि पूरा विपक्ष मिलेगा और मोदी जी, अमित शाह और मोहन भागवत जी को समझ आ जाएगा कि भारत को दो-तीन लोग नहीं चला सकते हैं.

दलित-गरीबों की सुनवाई नहीं

ओबीसी को कांग्रेस में उचित हिस्सेदारी का वादा करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि हम आपको राजनीति में जगह देना चाहते हैं. कांग्रेस में ओबीसी को उनका अधिकार देंगे. जहां भी जरूरत होगी वहां आपके साथ खड़े रहेंगे. लोकसभा, राज्यसभा और विधानसभाओं में आपको मौका दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि 50-60 फीसदी आबादी को मौका दिए बिना देश को आगे नहीं बढ़ाया जा सकता है. कांग्रेस अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि इस सरकार में ओबीसी, दलित और गरीब लोगों की कोई सुनवाई नहीं है, बल्कि इस सरकार में 20-25 लोगों (उद्योगपतियों) की चलती है.

संघ पर राहुल का हमला इस तत्य के मद्देनजर बेहद अहम है कि हाल ही में पूर्व राष्ट्रपति और कांग्रेस नेता प्रणब मुखर्जी ने हाल ही में नागपुर में संघ के कार्यक्रम में हिस्सा लिया था. कई कांग्रेस नेताओं ने उन्हें ऐसा न करने की सलाह दी थी लेकिन प्रणब मुखर्जी ने अपील को दरकिनार करते हुए संघ के कार्यक्रम में हिस्सा लिया था. वह आरएसएस संस्थापक डॉ. केशव हेडगेवार के जन्मस्थल भी पहुंचे थे.

(भाषा इनपुट)