मलप्पुरम (केरल): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को वायनाड लोकसभा क्षेत्र में एक रोड शो के दौरान कहा कि भाजपा द्वारा फैलाई गई नफरत और असहिष्णुता का जवाब प्यार और स्नेह से दिया जाएगा. वायनाड लोकसभा सीट पर बड़े अंतर से हुई अपनी जीत के बाद क्षेत्र के मतदाताओं का शुक्रिया अदा करने के लिए किए गए रोड शो में राहुल ने कहा कि कांग्रेस पार्टी मजबूत विपक्ष बनकर उभरेगी और गरीबों की आवाज उठाएगी.

 

उन्होंने कहा कि मोदी के पास बहुत धन हो सकता है. मीडिया उनके साथ हो सकता है. हो सकता है कि उनके अमीर दोस्त उनके साथ हों, लेकिन भाजपा द्वारा फैलाई गई असहिष्णुता के खिलाफ कांग्रेस पार्टी अपनी लड़ाई जारी रखेगी. राहुल ने कहा कि भाजपा और मोदी की नफरत और असहिष्णुता से कांग्रेस पार्टी प्यार एवं स्नेह से जवाब देगी. भारी बारिश के बावजूद राहुल ने शुक्रवार अपने संसदीय क्षेत्र वायनाड में रोड शो किया और बहुत बड़े अंतर से उन्हें जिताने के लिए मतदाताओं का शुक्रिया अदा किया. प्रदेश कांग्रेस के नेताओं के साथ एक विशेष खुले वाहन में रोड शो करते हुए राहुल जिले के कलिकवु की संकरी गलियों से गुजरे और वहां उमड़ी भीड़ का अभिवादन किया.

वीरप्पा मोइली ने राहुल गांधी से कहा- जिम्मेदारी संभालिये, खत्म करिए कांग्रेस में फैला असंतोष

बारिश के बावजूद महिलाओं एवं बच्चों सहित हजारों लोग राहुल की एक झलक पाने के लिए सड़कों पर नजर आए. राहुल अपने संसदीय क्षेत्र के मतदाताओं का शुक्रिया अदा करने के लिए तीन दिन की यात्रा पर आए हैं. वायनाड लोकसभा सीट से करीब 4.31 लाख वोटों से जीत हासिल करने के बाद राहुल पहली बार अपने संसदीय क्षेत्र के दौरे पर आए हैं. उन्होंने गांधी परिवार का गढ़ माने जाने वाली अमेठी से भी लोकसभा चुनाव लड़ा था, लेकिन केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के हाथों उन्हें हार का सामना करना पड़ा. जलजमाव के बावजूद लोगों को सड़कों की दोनों तरफ खड़े होकर धैर्यपूर्वक राहुल के दीदार का इंतजार करते देखा गया. अपने नए सांसद के स्वागत के लिए कई लोग छतों और बालकनियों में भी खड़े नजर आए.

कांग्रेस को बड़ा झटका, पार्टी को छोड़ तेलंगाना के 12 विधायक टीआरएस के साथ

भीड़ भरी सड़क से जब कांग्रेस अध्यक्ष का वाहन गुजर रहा था, तो उत्साहित पार्टी कार्यकर्ता तिरंगा झंडा और राहुल की तस्वीर वाले पोस्टर लेकर नाचने लगे. वे हम आपके साथ हैं का नारा लगा रहे थे. ड्रम बजाते हुए वे जोर-जोर से राहुल, राहुल भी कह रहे थे. विपक्षी कांग्रेस की अगुवाई वाले यूडीएफ में गठबंधन सहयोगी इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) के हरे झंडे भी भीड़ में लहराते दिखे. रोड शो के दौरान सुरक्षाकर्मियों की जान सांसत में अटकी दिखी, क्योंकि कलिकवु नक्सल प्रभावित इलाका माना जाता है. राहुल के रोड शो के दौरान एसपीजी, नक्सल विरोधी दस्ता और केरल पुलिस के जवान सुरक्षा व्यवस्था संभाल रहे थे.

मध्यप्रदेश में कौन बनेगा कांग्रेस का अध्यक्ष, रेस में आगे आए कई नाम तो शुरू हुई उठा-पटक

कांग्रेस अध्यक्ष के रोड शो के दौरान उनके साथ प्रदेश कांग्रेस के नेता एम रामचंद्रन, नेता प्रतिपक्ष रमेश चेन्नीतला, विधायक ए पी अनिल कुमार सहित कई अन्य मौजूद थे. राहुल अपने वाहन से हाथ हिलाकर सड़कों पर उमड़ी भीड़ का अभिवादन कर रहे थे. उन्होंने कहा कि मैं वायनाड के लोगों के लिए लड़ूंगा. मैं संसद के भीतर और बाहर वायनाड के मुद्दे उठाऊंगा. मैं इस संसदीय क्षेत्र के लिए आपके साथ काम करूंगा. आपकी बात सुनूंगा. उन्होंने कहा कि मैं वायनाड के लोगों की तरफ से बोलूंगा. मेरे प्रति दिखाए गए प्रेम एवं स्नेह के लिए आप सभी का धन्यवाद. राहुल ने कहा कि यूं तो वह कांग्रेसी हैं, लेकिन वह राजनीति से परे जाकर काम करेंगे और हर क्षेत्र के लोगों के लिए काम करेंगे. उन्होंने कहा कि केरल से सांसद होने के नाते वह संसद के बाहर और भीतर न सिर्फ वायनाड बल्कि समूचे राज्य के मुद्दे उठाएंगे. मलप्पुरम जिले में दो स्वागत समारोहों के बाद राहुल सड़क मार्ग से वायनाड जिले के कलपेट्टा जाएंगे और वहां रात बिताएंगे.

चुनाव में हार पर हरियाणा में रार, कांग्रेस प्रमुख बोले- मुझे खत्म करना चाहते हैं तो गोली मार दीजिए

राहुल का पहले वंदूर और फिर नीलांबर विधानसभा क्षेत्रों में अभिनंदन किया गया. राहुल वायनाड लोकसभा क्षेत्र के अपने दौरे के दौरान अगले दो दिनों में कम से कम 15 स्वागत समारोहों में हिस्सा लेंगे. वायनाड लोकसभा क्षेत्र वायनाड, मलप्पुरम और कोझीकोड जिलों में फैला है. कांग्रेस की वायनाड इकाई के एक नेता ने कहा कि राहुल का दौरा विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाएगा. कलपेट्टा, कंबलकडु, पणमरम, मनंतवाड़ी, पुलपल्ली और सुल्तान बठेरी में राहुल का अभिनंदन किया जाएगा और नौ जून को दिल्ली रवाना होने से पहले वह कोझीकोड विधानसभा क्षेत्र में एक रोड शो करेंगे.

तेलंगाना में दलबदल के बाद कांग्रेस के लिए इन 6 और राज्‍यों में बजी खतरे की घंटी