नई दिल्ली. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने किसानों की कर्ज माफी और राफेल मामले को लेकर एक बार फिर केंद्र सरकार और पीएम नरेंद्र मोदी के ऊपर हमला बोला है. कर्नाटक के बीदर में एक सभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनौती दी कि जिस तरह कर्नाटक की सरकार ने किसानों को कर्ज माफ किया है, केंद्र सरकार भी देश के 50 फीसदी किसानों का कर्ज माफ करके दिखाए. राहुल गांधी ने सभा में कहा कि कर्नाटक वापस आकर उन्हें बहुत खुशी हो रही है. कांग्रेस अध्यक्ष ने सभा में राफेल फाइटर जेट डील और जीएसटी के अलावा कई अन्य मुद्दों पर भी केंद्र सरकार को घेरा. जीएसटी पर बात करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि 2019 में कांग्रेस की सरकार के सत्ता में आते ही ‘गब्बर सिंह टैक्स’ को जीएसटी में बदल दिया जाएगा. देश के हर नागरिक को सिर्फ एक ही टैक्स देना पड़ेगा.

कर्ज माफी पर हमने वादा निभाया
कांग्रेस अध्यक्ष ने किसानों की कर्ज माफी को लेकर केंद्र सरकार पर तीखे हमले किए. उन्होंने कहा कि पूरे देश में किसान आत्महत्या करते हैं, लेकिन पीएम मोदी को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. राहुल गांधी ने कहा, ‘चुनाव में हमने कहा था कि जैसे ही कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार आएगी हमारा पहला काम किसानों का कर्जा माफ करने का होगा. जो हमने कहा था, करके दिखा दिया.’ राहुल गांधी ने पीएम मोदी और केंद्र सरकार को चुनौती देते हुए कहा, ‘नरेन्द्र मोदी जी किसानों का कर्जा माफ नहीं कर सकते हैं. बड़े-बड़े भाषण करेंगे. मैं मोदी जी को चुनौती देता हूं कि कर्नाटक की सरकार ने किसानों का कर्जा माफ किया, उसका आधा कर्जा हिंदुस्तान के किसानों का कर के दिखा दें. मोदी जी एमएसपी बढ़ाने की बात करते हैं और कहते हैं पूरे देश में 10 हजार करोड़ रुपए एमएसपी बढ़ाई. उससे तीन गुना ज्यादा कर्नाटक की सरकार ने कर्जा माफी करके दिखा दिया.’

रोजगार के नाम पर युवाओं के साथ धोखा
राहुल गांधी ने बीदर की सभा को संबोधित करते हुए कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने चुनावी भाषणों में देश के युवाओं से वादा किया था कि वे हर साल 2 करोड़ लोगों को रोजगार देंगे. लेकिन पीएम अपना वादा पूरा नहीं कर सके. बीते दिनों पीएम मोदी द्वारा चाय वाले के नाले की गैस का उदाहरण बताए जाने पर तंज कसते हुए राहुल ने कहा, ‘पीएम ने अपने चुनावी भाषण में सभी को गैस देने का वादा किया था, लेकिन अब वे गटर से गैस बनाने की बात कह रहे हैं.’ राहुल ने कहा, ‘नाले में पाईप लगाओ और ढाबे पर पकौड़े बनाओ. ये है नरेन्द्र मोदी जी की युवाओं को रोजगार देने की रणनीति.’ राफेल डील और रोजगार को जोड़ते हुए राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री के साथ फ्रांस के डेलिगेशन में अनिल अंबानी जी थे. नरेन्द्र मोदी जी ने युवाओं से रोजगार छीन कर अनिल अंबानी को दे दिया.

राफेल डील पर भी राहुल ने उठाए सवाल
हाल ही में कांग्रेस अध्यक्ष का पद संभालने वाले राहुल गांधी ने बीदर की सभा में केंद्र की एनडीए सरकार पर जमकर हमले किए. उन्होंने फ्रांस सरकार के साथ राफेल फाइटर जेट डील पर सरकार की तरफ से जानकारी छुपाने को लेकर भी प्रहार किया. राहुल गांधी ने कहा, ‘संसद में पूरे देश को मैंने समझाया कि नरेन्द्र मोदी जी ने रफेल मामले में भ्रष्टाचार किया है.’ राहुल गांधी ने कहा कि यूपीए सरकार के समय फ्रांस के साथ जो समझौता किया गया था, उसमें स्पष्ट था कि हम राफेल की तकनीक का भी समझौता होगा, जिसके तहत देश में ही इस फाइटर जेट का उत्पादन हो सकेगा. इससे हमारे देश के एरोनॉटिकल इंजीनियर्स को नौकरी मिलती और लाखों अन्य युवाओं को रोजगार मिलता. लेकिन पीएम मोदी की सरकार के आने के बाद यह समझौता पूरी तरह से बदल दिया गया. राहुल ने कहा, ‘फ्रांस के राष्ट्रपति ने मुझे बताया कि रफेल हवाई जहाज का दाम सीक्रेट पैक्ट में नहीं आता है. यदि हिंदुस्तान की सरकार चाहे तो वो दाम बता सकती है. लेकिन रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने झूठ कहा कि विमान की कीमत नहीं बताई जा सकती है.’

पिछड़ी जातियों को साधने के लिए BJP का खास प्‍लान, हर जाति को दे रही तोहफे

यौन उत्पीड़न मामलों पर भी पीएम को घेरा
राहुल गांधी ने बिहार के मुजफ्फरपुर और यूपी के देवरिया में लड़कियों के साथ यौन उत्पीड़न के मामलों पर भी पीएम मोदी की चुप्पी पर सवाल उठाया. राहुल गांधी ने कहा, ‘नरेन्द्र मोदी जी नया नारा लाए थे ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’, लेकिन मोदी जी ने ये नहीं बताया कि किससे बचाओ. प्रधानमंत्री बीजेपी के नेताओं को बचाने में लगे हैं. उन्होंने बिहार और यूपी में हुई शेल्टर होम की घटनाओं पर एक बार भी अपनी जबान नहीं खोली. वे यौन उत्पीड़न और दुष्कर्म के आरोपी अपने नेताओं को बचाने में लगे रहे.’ राहुल गांधी ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि आने वाले चुनाव में डटकर लड़िए और कर्नाटक की जनता को बताइए कि चौकीदार भागीदार बन गया है. 526 करोड़ का हवाई जहाज 1600 करोड़ में खरीदा है. कर्नाटक के लोगों से रोजगार छीना है और अपने उद्योगपति मित्र को दिया है.