श्रीनगर। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने जम्मू – कश्मीर के आईएएस अधिकारी शाह फैसल के समर्थन में सामने आए हैं. फैसल के खिलाफ राज्य सरकार ने बलात्कार की घटनाओं से जुड़े ट्वीट को लेकर अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू करने का फैसला किया है. इस संबंध में कार्मिक मंत्रालय ने भी शाह फैसल को नोटिस जारी कर सफाई मांगी थी. फैसल के ट्वीट को लेकर भारी विवाद हुआ था और इसे केंद्र सरकार ने गलत आचरण माना था.

राहुल ने लिखा फैसल को पत्र

राहुल गांधी ने फैसल को लिखे पत्र में कहा आपने भारत में बलात्कार की बढ़ती घटनाओं पर अपने विचार प्रकट किए जिसके लिए जम्मू – कश्मीर की सरकार ने आपके खिलाफ जांच का फैसला किया है. मैं इस फैसले के खिलाफ आपके प्रति एकजुटता प्रकट करता हूं.

रेपिस्तान शब्द का इस्तेमाल

इसी साल अप्रैल में फैसल ने बलात्कार की घटनाओं को लेकर रेपिस्तान शब्द का इस्तेमाल किया था. फैसल ने 2010 में सिविल सेवा परीक्षा में सर्वोच्च स्थान हासिल किया था. फैसल के इस ट्वीट पर विवाद हुआ था और सरकार ने इसे सेवा कार्य का उल्लंघन मानते हुए उन्हें नोटिस जारी किया था.

बलात्कार पर ट्वीट को लेकर 2010 के यूपीएससी टॉपर फैसल के खिलाफ एक्शन

फैसल ने दी थी सफाई

हालांकि अपनी सफाई में फैसल ने कहा कि उनका इरादा देश की छवि बिगाड़ने का नहीं था बल्कि वह पूरे साउथ एशिया के हालातों के मद्देनजर ऐसा कह रहे हैं. सोशल मीडिया पर भी उनके इस ट्वीट पर आलोचना हुआ था, हालांकि कई लोगों ने उनका साथ भी दिया. विपक्षी दलों ने भी उनके इस ट्वीट का इस्तेमाल मोदी सरकार पर हमले के लिए किया. अब राहुल गांधी ने भी इस मुद्दे पर शाह फैसल को अपना समर्थन दे दिया.

शाह फैसल ने ट्वीट किया था-  जनसंख्या + पितृसत्ता + निरक्षरता + शराब + पॉर्न + तकनीक + अराजकता = रेपिस्तान.