नई दिल्ली: मध्य प्रदेश के मंदसौर में 7 साल की बच्ची से हुए रेप की घटना पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने दुख जताया है. राहुल गांधी ने इस जघन्य घटना पर दुख जताते हुए कहा कि अपने बच्चों की सुरक्षा और दोषियों को जल्द से जल्द सजा सुनिश्चित करने के लिए हमें एक राष्ट्र के तौर पर एकजुट होना होगा. Also Read - कांग्रेस पार्टी में होगी सचिन पायलट की घर वापसी, आलाकमान संग मुलाकात की शेयर की तस्वीर

Also Read - शशि थरूर का बड़ा बयान, सोनिया गांधी नहीं, अब कांग्रेस की कमान संभालें राहुल, नहीं तो...

राहुल ने ट्वीट कर कहा, ‘मंदसौर में आठ साल की बच्ची का अपहरण किया गया और उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया गया. यह बच्ची जीवन के लिए संघर्ष कर रही है. इस बच्ची के साथ हुई बर्बरता से व्यथित हूं.’ उन्होंने कहा, ‘अपने बच्चों की सुरक्षा और गुनाहगारों को त्वरित न्याय की जद में लाने के लिए हमें एक राष्ट्र के तौर पर एकसाथ आना होगा.’ Also Read - ... तो देशद्रोह के मुकदमे ने पहुंचाई थी ठेस, सचिन पायलट ने किए कई खुलासे, प्रियंका गांधी को क्यों कहा थैंक यू, जानें क्या-क्या हुआ

बीजेपी विधायक के बिगड़े बोल

इससे पहले पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे बीजेपी विधायक सुदर्शन गुप्ता ने एक बयान दिया जिसपर विवाद हो गया. गुप्ता ने बयान उस समय दिया था जब सांसद सुधीर गुप्ता पीड़ित बच्ची के माता-पिता से मिलने पहुंचे थे. जब सांसद गुप्ता पीड़ित बच्ची के माता-पिता से बात कर रहे थे तो इंदौर के बीजेपी विधाक सुदर्शन गुप्ता ने बच्ची के माता-पिता से कहा, ”माननीय सांसद जी का धन्यवाद कीजिए कि वो स्पेशली आपसे मिलने आए हैं, और कोई तकलीफ हो तो बता देना.”

कांग्रेस का निशाना

विधायक के इस बयान के लिए सोशल मीडिया सहित हर जगह लोग उनका विरोध कर रहे हैं और उनसे तुरंत माफी की मांग कर रहे हैं. इस मामले पर विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने भी बीजेपी को घेरना शुरू कर दिया है.

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, “क्षेत्रीय भाजपा सांसद ने पीड़ित बच्ची के माता-पिता से मिलकर उन पर कोई अहसान नहीं किया है. यह तो एक निर्वाचित जनप्रतिनिधि के रूप में उनका फर्ज था. भाजपा विधायक को अपने संवेदनहीन बर्ताव के लिए बच्ची के परिजनों से माफी मांगनी चाहिए.”

विधायक की सफाई

इंदौर यूनिवर्सिट से पोस्ट ग्रेजुएट भाजपा विधायक सुदर्शन गुप्ता ने अपने बचाव के साथ कांग्रेस पर पलटवार भी किया और आरोप लगाया कि कांग्रेस ने वीडियो को काट-छांटकर सोशल मीडिया पर वायरल किया है, ताकि सूबे में सत्तारूढ़ दल को बदनाम किया जा सके.