नई दिल्ली. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने #NoConfidenceMotion पर चर्चा के दौरान नरेंद्र मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा. सरकार की नाकामयाबियों को गिनाने के बाद वह पर्सनल हो गए और कहा कि सरकार के लोगों ने मुझे बहुत कुछ सिखाया. राहुल ने कहा, मैं प्रधानमंत्री, आरएसएस और विपक्ष के लोगों का धन्यवाद देता हूं कि उन्होंने मुझे हिंदू होने का मतलब समझाया. कांग्रेस क्या है इसे समझाया. हिंदुस्तान के बारे में समझाया. शिव होने के मतलब के बारे में समझया. इससे बड़ी कोई बात नहीं हो सकती. Also Read - Corona Effect: छत्तीसगढ़ सरकार का बड़ा फैसला, पहली से 8वीं और 9वीं व 11वीं कक्षा के छात्रों को सामान्य पदोन्नति मिलेगी

राहुल गांधी इतने पर ही नहीं रुके. उन्होंने कहा, आपके मन में मेरे लिए गुस्सा है, आपके लिए मैं पप्पू हो सकता हूं, अलग-अलग गाली दे सकते हो. लेकिन मेरे मन में आपके लिए नफरत नहीं है. मैं आपके खिलाफ इतना सा भी क्रोध और गुस्सा नहीं रखूंगा. इसका कारण है कि मैं कांग्रेस हूं. ये भावना हमारे और आपके अंदर है. मैं नफरत की भावना को निकालूंगा. एक-एक करके मैं सबके अंदर से गुस्सा निकालूंगा. सबको कांग्रेस में शामिल करूंगा. Also Read - कोरोना वायरस के 'इलाज और टीके' के लिए पीएम मोदी ने की फ्रांस के राष्ट्रपति से बात

बीजेपी सांसद ने दी बधाई
राहुल गांधी ने कहा कि सदन की कार्यवाही रुकने के दौरान मैं बाहर गया था. उधर मुझे एक बीजेपी के एक सांसद मिले थे. उन्होंने मुझे बधाई देते हुए कहा कि बहुत बढ़िया बोलें. यहां सामने अकालीदल की सांसद बैठी हैं, वह मुस्कुरा रही हैं. इस दौरान सदन में मौजूद कई नेता तालीबजा रहे थे तो कई हतप्रभ थे. राहुल इतने पर ही नहीं रुके. उन्होंने कहा कि पूरा का पूरा विपक्ष और आपके ही लोग मिलकर चुनाव में पीएम मोदी को हराने जा रहे हैं. Also Read - मन को खुश रखने के लिए हफ्ते में 1-2 बार ये काम करते हैं पीएम मोदी, शेयर किया वीडियो

सरकार को घेरा
बता दें कि रॉफेल डील से लेकर नोटबंदी, जीएसटी, बेरोजगारी, सैनिकों के सम्मान, डोकलाम, किसान और जीएसटी जैसे मुद्दे पर सरकार को घेरा. उन्होंने सीधे-सीधे आरोप लगाया कि सरकार ने देश से झूठ बोला है. उन्होंने कहा, मैंने खुद फ्रांस के राष्ट्रपति से मुलाकात की और उन्होंने मुझसे कहा कि किसी तरह का कोई गुपचुप समझौता नहीं हुआ. सरकार ने जादू से हवाई जहाज का दाम 1600 करोड़ कर दिया. उन्होंने कहा कि देश समझ गया है कि मोदी चौकीदार नहीं, भागीदार हैं. राहुल यहीं नहीं रुके और कहा कि डोकलाम के मुद्दे पर प्रधानमंत्री ने सैनिकों को धोखा दिया है.