नई दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शनिवार को दिल्ली में प्रवासी मजदूरों के साथ बातचीत की. ये मजदूर पैदल अपने घरों को लौट रहे थे. राहुल गांधी ने दिल्ली के सुखदेव विहार फ्लाईओवर के पास इन मजदूरों के साथ बैठकर बातचीत की और उनका हाल जाना. जिसके बाद कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने इन मजदूरों को उन्हें अपने घरों तक ले जाने के लिए वाहनों की व्यवस्था की. इस दौरान मोनू नाम के एक मजदूर ने बताया कि वे हरियाणा से चल कर आए हैं और झांसी जा रहे हैं.Also Read - Delhi Liquor Shops Closed: दिल्ली में 47 दिन तक नहीं मिलेगी शराब, 1 अक्टूबर से बंद रहेंगी ये दुकानें

राहुल गांधी ने शाम के समय सुखेदव विहार इलाके के फ्लाईआवेर के निकट मजदूरों से करीब एक घंटे तक बातचीत की. सूत्रों का कहना है कि राहुल गांधी की श्रमिकों के साथ बातचीत के दौरान सामाजिक दूरी का खयाल रखा गया था. कांग्रेस का दावा है कि राहुल गांधी ने जिन श्रमिकों से मुलाकात की उनको पुलिस ने हिरासत में ले लिया. हालाकि बाद में पुलिस ने कहा कि ये खबर गलत है. Also Read - गोवा में कांग्रेस को बड़ा झटका! पूर्व CM लुइजिन्हो फलेरियो ने छोड़ी पार्टी; TMC में शामिल होने की अटकलें

बता दें कि ऐसी खबरें आईं थीं कि राहुल गांधी से मिलने वाले प्रवासियों को पुलिस ने हिरासत में लिया था. हालांकि पुलिस सूत्रों का कहना है कि यह गलत सूचना है. सूत्रों ने बताया कि प्रवासियों को उसी जगह पर रोककर रखा गया था. वे बड़ी संख्या में थे इसलिए नियमों के अनुसार उन्हें एक साथ वाहन पर चढ़ने की अनुमति नह दी गई थी. हालांकि बाद में कुछ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उन्हें अपनी कारों में बिठाकर उनके राज्य ले गए. Also Read - Dekho Hamari Delhi: दिल्ली में कहां-कहां हैं घूमने की जगह? शहर के पर्यटन स्थलों की जानकारी देगा केजरीवाल सरकार का ऐप

इससे पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कोरोना वायरस महामारी में मुसीबत का सामना कर रहे गरीबों, किसानों एवं मजदूरों तक ‘न्याय’ योजना की तर्ज पर मदद पहुंचाने की मांग करते हुए शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार से आग्रह किया कि वह आर्थिक पैकेज पर पुनर्विचार करें और सीधे लोगों के खातों में पैसे डालें.

उन्होंने यह भी कहा कि लॉकडाउन को समझदारी एवं सावधानी के साथ खोलने की जरूरत है और बुजुर्गों एवं गंभीर बीमारियों से ग्रसित लोगों का विशेष ध्यान रखना चाहिए तथा अर्थव्यवस्था में आने वाले ‘तूफान’ का मुकाबला करने की तैयारी रखनी चाहिए.