नई दिल्ली. राफेल मुद्दे पर संसद गर्म है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल मुद्दे पर बयान देने के लिए नियम 357 के अंतर्गत नोटिस दिया है. बजट सत्र का पहला चरण शुक्रवार को ही खत्म हो रहा है और दूसरा चरण 5 मार्च से शुरू होगा. 

राफेल डील पर राहुल हुए और आक्रामक, कहा रक्षामंत्री झूठ क्यों बोल रही हैं

राफेल डील पर राहुल हुए और आक्रामक, कहा रक्षामंत्री झूठ क्यों बोल रही हैं

Also Read - मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने किसानों का कर्ज माफ किया, भाजपा ने झूठ बोला, सच सामने आया: राहुल गांधी

Also Read - संसद में तीन श्रम सुधार विधेयक पास, अब बिना सरकारी परमीशन के अपने कर्मियों को हटा सकेंगी कम्पनियां

गुरुवार को सदन की कार्यवाही स्थगित होने के बाद राहुल ने कहा था कि ये नियम है, जब भी कोई सदस्य किसी मुद्दे को उठाता है तो उसे बोलने का मौका मिलना चाहिए. जब मैंने संसद में इसपर बोलना चाहा तो सदन की कार्यवाही ही स्थगित कर दी गई. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि सबने पीएम को भ्रष्टाचार के मुद्दे पर वोट दिया था, लेकिन राफेल डील के बारे में पीएम कुछ नहीं बोल रहे हैं. लोकसभा में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, ‘नियम 357 के तहत राहुल को बोलने का मौका मिलना चाहिए. हमने इस मामले में लोकसभा स्पीकर को नोटिस दिया है अब उन्हें ही इसपर फैसला करना है। हम चाहेंगे कि राहुल को बोलने का मौका मिले.’ Also Read - लद्दाख गतिरोध: भारत-चीन ने जारी किया संयुक्त बयान, फ्रंटलाइन पर और जवान नहीं भेजेंगे दोनों देश, जारी रहेगी वार्ता

फ्रांस से लड़ाकू विमान राफेल सौदे को लेकर मोदी सरकार पर हमला करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार को सवालिया लहजे में कहा था कि रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने इस मसले पर अपना पैंतरा क्यों बदला और कहा कि वह विमान की कीमतों का खुलासा नहीं करेंगी.

राहुल ने ट्वीट करके पूछा, ‘रक्षामंत्री नवंबर 2017 में दिए अपने बयान से क्यों मुकर गईं?’ राहुल ने ट्वीट में नवंबर रक्षामंत्री की ओर से दिए गए बयान का जिक्र किया है. उन्होंने लिखा है कि रक्षामंत्री ने नवंबर में कहा था कि वह राफेल विमान की कीमतों का खुलासा करेंगी, लेकिन फरवरी 2018 में वह कीमतों को गोपनीय बता रही हैं.

उन्होंने ट्वीट में इसका जवाब देते हुए लिखा, ‘भ्रष्टाचार होने, मोदीजी को बचाने, मोदी के मित्रों को बचाने और इसमें सबको बचाने के लिए ऐसा किया जा रहा है.’ सीतारमण ने सोमवार को संसद में कहा था कि अंतर्देशीय सरकारों के बीच हुए करार में गोपनीय सूचना होने के कारण फ्रांस के साथ राफेल लड़ाकू विमान सौदे के ब्यौरे का खुलासा नहीं किया जा सकता है. 

राफेल सौदा: राहुल के आरोपों के जवाब में सरकार ने कहा- नहीं हुआ घोटाला, ब्‍यौरा नहीं दे सकते  

राफेल सौदा: राहुल के आरोपों के जवाब में सरकार ने कहा- नहीं हुआ घोटाला, ब्‍यौरा नहीं दे सकते  

राहुल गांधी ने सौदे को लेकर सरकार पर हमला बोला और प्रधानमंत्री पर इस मसले पर चुप्पी साधने का आरोप लगाया.

जेटली ने बताया था राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा

राफेल विमान सौदे को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष पर तीखा प्रहार करते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को कहा कि इस सौदे की जानकारी सार्वजनिक करने की मांग करके राहुल गांधी भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ गंभीर समझौता कर रहे हैं और इस बारे में उन्हें प्रणब मुखर्जी से सीखना चाहिए. जेटली ने कहा, ‘मेरा आरोप है कि वह (कांग्रेस अध्यक्ष) भारत की सुरक्षा से गंभीर समझौता कर रहे हैं.’ वर्ष 2018-19 के केंद्रीय बजट पर चर्चा का उत्तर देते हुए जेटली ने कहा कि कांग्रेस की पूर्ववर्ती सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप रहे है, ऐसे में अब वह एनडीए सरकार में भ्रष्टाचार तलाशने का प्रयास कर रही है. उसे कुछ नहीं मिला तो राफेल का मुद्दा उठा रहे हैं.