नई दिल्ली. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशान साधा. राहुल ने रॉफेल डील से लेकर नोटबंदी, जीएसटी, बेरोजगारी, सैनिकों के सम्मान, डोकलाम, किसान और जीएसटी जैसे मुद्दे पर सरकार को घेरा. उन्होंने सीधे-सीधे आरोप लगाया कि सरकार ने देश से झूठ बोला है. उन्होंने कहा, मैंने खुद फ्रांस के राष्ट्रपति से मुलाकात की और उन्होंने मुझसे कहा कि किसी तरह का कोई गुपचुप समझौता नहीं हुआ. सरकार ने जादू से हवाई जहाज का दाम 1600 करोड़ कर दिया. उन्होंने कहा कि देश समझ गया है कि मोदी चौकीदार नहीं, भागीदार हैं. राहुल यहीं नहीं रुके और कहा कि डोकलाम के मुद्दे पर प्रधानमंत्री ने सैनिकों को धोखा दिया है. Also Read - मोदी के नेतृत्व में भारत की जनता के सामूहिक संकल्प से परास्त होगा कोरोना: शिवराज सिंह चौहान

राहुल गांधी ने अपने भाषण की शुरुआत जयदेव गल्ला के दिए भाषण पर टिप्पणी करते हुए काह. उन्होंने कहा कि आंध्र प्रदेश के साथ सरकार ने धोखा दिया है और राज्य जुमले का शिकार हुआ है. इसके बाद राहुल गांधी ने हर व्यक्ति के अकाउंट में 15 लाख रुपये, दो करोड़ युवाओं को रोजगार, नोटबंदी और जुमले का जिक्र करते हुए नरेंद्र मोदी सरकार को घेरा. Also Read - कोरोना से जंग: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी जलाए दीये, तस्वीरें शेयर कर संस्कृत में लिखा ये संदेश

रोजगार के मुद्दे पर निशाना
राहुल गांधी ने कहा कि चीन 24 घंटे में 50 हजार युवाओं को नौकरी देता है और मोदी सरकार 400 लोगों को नौकरी देती है. उन्होंने कहा कि ये पकौड़ी बनाने की बात करते हैं और दुकान खोलने की बात करते हैं. रोजगार कौन लाएगा? उन्होंने कहा कि पता नहीं कैसे एक मैसेज आया और उन्होंने नोटबंदी कर दी. Also Read - कोरोना के खिलाफ जंग में एकजुट पूरा देश, पीएम की मां से लेकर कई हस्तियों ने घर के बाहर जलाए दीये, देखें तस्वीरें

जीएसटी के मुद्दे पर निशाना
राहुल गांधी ने कहा, जीएसटी कांग्रेस पार्टी लाई थी और इन्होंने विरोध किया था. गुजरात के मुख्यमंत्री ने विरोध किया था. हम चाहते थे कि एक जीएसटी हो, पेट्रोल-डीजल उसमें हो और हिंदुस्तान के लिए एक टैक्स लगे. प्रधानमंत्री की जीएसटी, 5 अलग-अलग जीएसटी से करोड़ों लोगों को बर्बाद किया. इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुस्कुरा रहे थे.

रॉफेल डील पर निशाना
राहुल गांधी ने रॉफेल डील पर सरकार को घेरा तो हंगामा शुरू हो गया. उन्होंने कहा कि मैंने खुद फ्रांस के राष्ट्रपति से मुलाकात की. उन्होंने मुझसे कहा कि भारत के साथ किसी तरह का गुपचुप समझौता नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि मोदी की मार्केटिंग में बिजनेसमैन पैसा लगाते हैं.

किसानों के मुद्दे पर निशाना
राहुल ने कहा, पीएम ने उद्योगपतियों का 2.5 लाख करोड़ का कर्ज माफ कर दिया. किसान हाथ जोड़कर कह रहा है कि हमारे कर्ज भी माफ कर दीजिए. राहुल गांधी के आरोपों पर संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने आपत्ति जताते हुए कहा कि राहुल के पास कोई सबूत नहीं है, अगर उनके पास सबूत हैं, तो पेश करें, वरना क्षमा याचना करें.