कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने देश में दलितों पर बढ़ते अत्याचार तथा महंगाई को लेकर शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए उन पर लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करने में नाकाम रहने का आरोप लगाया। Also Read - West Bengal Assembly Election: कांग्रेस का ममता बनर्जी को बड़ा ऑफर, कहा- पश्चिम बंगाल में मिलकर चुनाव लड़े TMC, बीजेपी से...

Also Read - कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन, राहुल-प्रियंका भी हुए शामिल, कहा- पूंजीपतियों को फायदा पहुंचा रही बीजेपी

उत्तर प्रदेश में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ अपनी तरह के पहले बातचीत सत्र ‘उद्घोष’ में शिरकत करते हुए राहुल ने कहा कि मध्य प्रदेश, हरियाणा व गुजरात जैसे भाजपा शासित राज्य दलितों व दबे-कुचलों के साथ अत्याचार के साक्षी रहे हैं, लेकिन प्रधानमंत्री इन घटनाओं पर मौन हैं। यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र और कर्नाटक मे दलितों के साथ मार-पीट, अत्याचार Also Read - राहुल गांधी की अपील- पेट्रोल-डीज़ल के बढ़ते जा रहे दाम, किसान भी परेशान, सरकार के खिलाफ 'सत्याग्रह' में शामिल हों लोग

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ऐसे लोगों के मुद्दों को उठाएगी और सुनिश्चित करेगी कि आम लोगों से जुड़े मुद्दों को बढ़-चढ़कर उठाया जाए। राहुल ने पार्टी कार्यकर्ताओं के 50 सवालों का जवाब दिया। राहुल ने कार्यकर्ताओं को भरोसा दिलाया कि यदि वे कड़ी मेहनत करते हैं, तो कांग्रेस उत्तर प्रदेश का गौरव फिर से वापस लाएगी और विकास कर उसे अग्रिम पंक्ति में खड़ा करेगी। यह भी पढ़ें: गुजरात में दलित उत्पीड़न की प्रतिदिन 3 घटनाएं

उन्होंने राज्य में पार्टी के नेताओं को चेतावनी देते हुए कहा कि अनुशासनहीनता को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। कांग्रेस ऐसा करने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगी, चाहे वह बड़ा नेता ही क्यों न हो।

बैठक में राहुल गांधी के साथ उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर, मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार शीला दीक्षित तथा पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद थे। राहुल को एक पदयात्रा (मार्च) निकालनी थी, लेकिन जिला प्रशासन द्वारा 12 किलोमीटर लंबे कार्यक्रम की अनुमति देने से इनकार करने के बाद उसे रद्द कर दिया गया।