नई दिल्ली: नेशनल कांफ्रेंस के प्रमुख फारुख अब्दुल्ला ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अब ‘पप्पू’ नहीं रहे और उन्होंने तीन प्रमुख हिंदीभाषी राज्यों के चुनावों को जीतकर, बतौर नेता अपनी क्षमताएं साबित कर दी हैं. एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुये उन्होंने सवाल करते हुए कहा कि भाजपा की पश्चिम बंगाल में प्रस्तावित रथ यात्रा की आवश्यकता क्या है? उन्होंने आश्चर्य प्रकट करते हुए कहा कि क्या पार्टी खुद को हिंदुओ की रक्षक के तौर पर पेश करना चाहती है. अब्दुल्ला ने कहा, ‘राहुल गांधी अब पप्पू नहीं रहे. उन्होंने तीन राज्यों को जीत कर अपनी योग्यता का प्रदर्शन कर दिया है. गौरतलब है कि भाजपा और अन्य कुछ दल गांधी पर व्यंग्य करते हुये उन्हें प्राय: ‘पप्पू’ की संज्ञा देते हैं.

इससे पहले केन्द्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा था कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी एक परिपक्व नेता बन गए हैं. राहुल गांधी ने तीन राज्यों में एक अच्छी जीत हासिल की है. वह अब ‘पप्पू’ नहीं है लेकिन ‘पप्पा’ बन गये है. महाराष्‍ट्र नवनिर्माण सेना के मुखिया राज ठाकरे ने तीन राज्यों में कांग्रेस की जीत के बाद कहा था कि पप्‍पू अब परमपूज्‍य हो गया है. राज ठाकरे ने कहा था गुजरात में राहुल गांधी अकेले थे, यहां तक कि कर्नाटक और अब यहां भी. अब पप्‍पू परमपूज्‍य हो गया है. क्‍या उनके नेतृत्‍व को राष्‍ट्रीय स्‍तर पर स्‍वीकार किया जाएगा? आप देख रहे हैं.’

हाल ही में राजस्थान में चुनाव प्रचार के दौरान बीजेपी सांसद देवजी भाई के राहुल गांधी को पप्पू कहने पर लोगों ने घेर लिया था. जमकर हुई बहस के बीच बीजेपी सांसद को माफी मांगनी पड़ी. इसके बाद भी लोगों ने बीजेपी सांसद को सभा नहीं करने दी. बीजेपी सांसद को मौके से लौटना पड़ा था. बात यहीं खत्म नहीं हुई. लोग यहां के बीजेपी दफ्तर भी पहुंच गए और हंगामा किया. लोगों का विरोध शांत करने के लिए स्थानीय बीजेपी नेताओं ने सांसद को वापस गुजरात भेज दिया. बीजेपी के नेता अक्सर राहुल गांधी को पप्पू कह कर उनका मजाक उड़ाते रहे हैं. हालांकि इसके जवाब में राहुल गांधी ने संसद में कहा था कि आपके मन में मेरे लिए गुस्सा है, आपके लिए मैं पप्पू हो सकता हूं, लेकिन मेरे मन में आपके लिए नफरत नहीं है.