नई दिल्ली. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को दो टूक कहा कि वह कई मुद्दों पर नरेंद्र मोदी सरकार से असहमत हैं, लेकिन यह स्पष्ट करना चाहते हैं कि जम्मू-कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है और पाकिस्तान या कोई दूसरा देश इसमें दखल नहीं दे सकता. गांधी ने पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा कि यह पड़ोसी देश जम्मू-कश्मीर में हिंसा भड़का रहा है और आतंकवाद समर्थक के तौर पर दुनिया भर में जाना जाता है. आपको बता दें दो दिन पहले ही पीएम नरेंद्र मोदी ने जी-7 समूह देशों के शिखर सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ मुलाकात में कश्मीर मुद्दे पर बात की थी. पीएम मोदी ने ट्रंप के साथ बातचीत के दौरान यह स्पष्ट कर दिया था कि कश्मीर मुद्दा भारत का आंतरिक मामला है. इसे पाकिस्तान के साथ आपसी बातचीत से भारत सुलझा लेगा, दुनिया के किसी अन्य देश को इस मुद्दे पर कष्ट करने की जरूरत नहीं है. इसके बाद राहुल गांधी का यह बयान सियासी रूप से काफी अहम है.

राहुल गांधी ने कहा- विपक्ष और प्रेस को हुआ जम्मू-कश्मीर में प्रशासनिक क्रूरता का अहसास

राहुल गांधी ने बुधवार को ट्वीट कर इस मुद्दे पर अपने विचार रखे. उन्होंने स्पष्ट किया कि कश्मीर में पाकिस्तान की वजह से ही हिंसात्मक घटनाएं हो रही हैं. गांधी ने ट्वीट किया, “मैं कई मुद्दों पर सरकार से असहमत हूं. लेकिन यह बिल्कुल स्पष्ट करना चाहता हूं कि कश्मीर भारत का आंतरिक मुद्दा है और पाकिस्तान या किसी अन्य देश के लिए इसमें दखल देने की कोई गुंजाइश नहीं है.” उन्होंने कहा, ‘जम्मू-कश्मीर में हिंसा है और यह पाकिस्तान द्वारा भड़काने और समर्थन देने की वजह से है. पाकिस्तान आतंकवाद के समर्थक के रूप में पूरी दुनिया में जाना जाता है.’

राहुल गांधी ने यह टिप्पणी ऐसे समय की है जब वह पिछले कई दिनों से जम्मू-कश्मीर के मामले को लेकर सरकार पर हमले कर रहे थे. उनका आरोप रहा है कि अनुच्छेद 370 के कई प्रावधान हटाने और राज्य के दो केंद्रशासित प्रदेश में बांटने का कदम असंवैधानिक तरीके से उठाया गया है. पिछले दिनों गांधी विपक्ष के कई नेताओं के साथ कश्मीर जा रहे थे, हालांकि उन्हें श्रीनगर हवाई अड्डे पर ही रोक दिया गया था और दिल्ली वापस भेज दिया गया था.

(इनपुट – एजेंसी)