नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को आरोप लगाया कि ‘आरोग्य सेतु’ ऐप एक अत्याधुनिक निगरानी प्रणाली है जिससे निजता एवं डेटा सुरक्षा को लेकर गंभीर चिंता पैदा हो रही हैं. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘आरोग्य सेतु एक अत्याधुनिक निगरानी प्रणाली है जिसे एक निजी ऑपरेटर को आउटसोर्स किया गया है तथा इसमें कोई संस्थागत जांच-परख नहीं है. इससे डेटा सुरक्षा और निजता को लेकर गंभीर चिंताएं पैदा हो रही हैं.’’ Also Read - विदेश से आने वाले भारतीयों को अब 7 दिन रहना होगा क्वारंटाइन, वापस किए जाएंगे बचे हुए पैसे

राहुल गांधी ने कहा, ‘‘टेक्नोलॉजी हमें सुरक्षित रहने में मदद कर सकती है, लेकिन नागरिकों की सहमति के बिना उन पर नजर रखने का डर नहीं होना चाहिए.’’ Also Read - छत्तीसगढ़ में Coronavirus के 15 नए केस, कुल आंकड़ा, 307 लेकिन कोई भी मौत नहीं

इससे पहले कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ‘आरोग्य सेतु’ से जुड़े एक सवाल पर वीडियो लिंक के जरिए संवाददाताओं से कहा, ‘‘आरोग्य सेतु के संदर्भ में कई विशेषज्ञों ने निजता का मुद्दा उठाया है. कांग्रेस इस विषय पर विचार कर रही है और अगले 24 घंटे में समग्र प्रतिक्रिया देगी.’’ गौरतलब है कि सरकार ने कोरोना संक्रमण को ट्रैक करने के लिए आरोग्य सेतु ऐप की शुरुआत की है. खबरों के मुताबिक इस ऐप को करोड़ों लोग डाउनलोड कर चुके हैं.

इन तमाम आरोपों को लेकर केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने कहा है कि ये सब बातें झूठ हैं. उन्होंने ट्वीट कर लिखा- “रोज एक नया झूठ. आरोग्य सेतु एक शक्तिशाली साथी है जो लोगों की सुरक्षा करता है. यह एक मजबूत डेटा सिक्योरिटी आर्किटेक्टर है. जिन लोगों ने अपने पूरे जीवन को निगरानी में रखा, वे नहीं जानते कि अच्छे के लिए तकनीक का लाभ कैसे उठाया जा सकता है!”

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अब अरोग्या सेतु को विश्व स्तर पर सराहा जा रहा है. App किसी भी निजी ऑपरेटर के लिए आउटसोर्स नहीं है.

(इनपुट भाषा)