नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को आरोप लगाया कि केंद्र सरकार ने कोरोना संकट के समय श्रमिक ट्रेनों के माध्यम से आपदा को मुनाफे में बदल दिया. राहुल पिछले कई महीनों से कोरोना वायरस और अर्थव्यवस्था की हालत को लेकर केंद्र सरकार को घेरने की कोशिश कर रहे हैं.Also Read - Indian Railway Recruitment 2022: भारतीय रेलवे में इन पदों पर आई भर्ती, 10वीं पास अभ्यर्थी करें आवेदन

उन्होंने एक खबर शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘‘बीमारी के ‘बादल’ छाए हैं, लोग मुसीबत में हैं. आपदा को मुनाफ़े में बदल कर कमा रही है ग़रीब विरोधी सरकार.’’ कांग्रेस नेता ने जो खबर शेयर की उसके मुताबिक, श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से रेलवे को 428 करोड़ रुपये की आमदनी हुई. Also Read - India Railways/IRCTC: ट्रेन में यात्रा करते समय रात में की ये हरकत तो होगी कार्रवाई, जानिए रेलवे का नया नियम

Also Read - Railway Recruitment 2022: रेलवे में इन पदों पर आवेदन की आखिरी तारीख नजदीक, जल्दी करें आवेदन

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के मद्देनजर 24 मार्च को देश में लॉकडाउन लागू होने के बाद तमाम शहरों में बड़ी संख्या में प्रवासी फंस गए थे. उन्हें उनके उनके प्रदेश अथवा गृह जिले तक पहुंचाने के लिए सरकार ने श्रमिक स्पेशल ट्रेनों की व्यवस्था की थी. श्रमिक स्पेशल ट्रेनें एक मई से चलाई गई थी.

राहुल ने अपने ट्वीट में जिस खबर को टैग किया है उसके माध्यस से वे सरकार पर आरोप लगा रहे हैं कि सरकार ने इस संकट की घड़ी में भी अपने फायद के आगे रखा रखा आम जनता की दिक्कतों को नजरअंदाज किया. आपको बता दें कि जब लॉकडाउन लगा था तो दूसरे राज्यों  में फंसे श्रमिकों को लाने के लिए केंद्र सरकार ने श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाने का फैसला किया था लेकिन कई राज्यों और केंद्र के बीच किराए को लेकर काफी तनाव भी पैदा हुआ था.