नई दिल्ली. कर्नाटक में सियासी उठापटक और सुप्रीम कोर्ट में देर रात तक चली सुनवाई के बाद बीएस येदियुरप्पा के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के साथ ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ‘संविधान का मजाक’ बनाने के लिए भाजपा पर निशाना साधा है. येदियुरप्पा के सीएम पद की शपथ लेने से पहले राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए कहा कि एक तरफ भाजपा ‘खोखली जीत’ का जश्न मनाएगी, दूसरी तरफ भारत ‘लोकतंत्र की हार’ का शोक मनाएगा. राहुल ने अपने ट्वीट में कहा, ‘कर्नाटक में जरूरी आंकड़ा नहीं होने के बावजूद सरकार के गठन का भाजपा का अतार्किक जिद संविधान का मजाक बनाना है.’ उन्होंने कहा, ‘एक तरफ भाजपा खोखली जीत का जश्न मनाएगी, वहीं दूसरी ओर भारत लोकतंत्र की हार का शोक मनाएगा.’ Also Read - राजस्थान भाजपा प्रमुख बोले- हम 75 हैं, पर कई विधायक हमसे जुड़ना चाहते हैं

पार्टी नेताओं ने कर्नाटक विधान सौध में दिया धरना
येदियुरप्पा के सीएम पद की शपथ लेने के विरोध में कांग्रेस नेताओं ने आज सुबह कर्नाटक विधान सौध में स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने धरना दिया. इन नेताओं में गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे, अशोक गहलोत, केसी वेणुगोपाल और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्दारमैया शामिल हैं. इनके अलावा विधानसभा चुनाव में निर्वाचित पार्टी के कई विधायक और अन्य नेता भी धरना में शामिल हुए हैं. इससे पहले पार्टी महासचिव अशोक गहलोत ने आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी सरकार में सभी बड़ी संवैधानिक संस्थाओं को कमजोर किया गया है और भाजपा सत्ता हथियाने के लिए ‘लोकतंत्र की हत्या’ कर रही है. गौरतलब है कि कल रात सुप्रीम कोर्ट ने येदियुरप्पा के शपथ ग्रहण पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था .

येदियुरप्पा को गवर्नर के न्योते के बाद कांग्रेस गई कोर्ट
कर्नाटक के राज्यपाल वजूभाई वाला ने कल भाजपा के सीएम पद के दावेदार बी.एस. येदियुरप्पा को प्रदेश में सरकार बनाने का न्योता दिया था. इसके बाद रात में ही कांग्रेस ने शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया था. कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने राज्यपाल पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि ‘उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के दखल से संविधान का ‘एनकाउंटर’ किया है.’ गौरतलब है कि राज्य में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है. ऐसे में प्रदेश की 224 सदस्यीय विधानसभा में 222 सीटों पर हुए चुनाव में भाजपा को 104, कांग्रेस को 78 और जेडीएस को 38 सीटें मिली हैं. फिलहाल, बहुमत के लिए जादुई आंकड़ा 112 है.