वायनाड (केरल): कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत किसानों के प्रति एकजुटता प्रकट करने के लिए सोमवार को अपने निर्वाचन क्षेत्र में एक ट्रैक्टर रैली में शामिल हुए और उन्होंने कहा कि कृषि एकमात्र व्यवसाय है जिसका संबंध ‘भारत माता’ से है.उन्होंने लोगों का आह्वान किया कि वे सरकार को तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए ‘मजबूर’ करें जिन्हें भाजपा नीत केंद्र सरकार ने लागू किया है.Also Read - Punjab Elections 2022: राहुल गांधी की अमृतसर मीटिंग से दूर रहे 5 कांग्रेस सांसद, एक MP ने दी ये सफाई

वायनाड जिले के थ्रिक्काइपट्टा से मुत्तिल के बीच छह किलोमीटर लंबी ट्रैक्टर रैली के बाद आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा, ‘‘पूरी दुनिया भारतीय किसानों की परेशानी देख सकती है लेकिन दिल्ली की सरकार किसानों का दर्द नहीं समझ पा रही है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमारे पास पॉप स्टार हैं जो भारतीय किसानों की स्थिति पर टिप्पणी कर रहे हैं लेकिन भारत सरकार को इसमें रुचि नहीं है. उन्हें (सरकार को) जब तक मजबूर नहीं किया जाएगा, वे तीनों कानूनों को वापस नहीं लेंगे.’’ Also Read - Punjab Election 2022: BJP ने 27 प्रत्याशियों की सूची जारी की, राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष को टिकट

राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि इन तीनों कृषि कानूनों को भारत की कृषि व्यवस्था को बर्बाद करने और पूरा कारोबार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दो-तीन दोस्तों को देने के लिए बनाया किया गया है. उन्होंने कहा कि कृषि 40 लाख करोड़ रुपये के साथ देश का सबसे बड़ा कारोबार है और इससे करोड़ों भारतीयों जुड़े हैं.कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘कृषि एकमात्र व्यवसाय है जिसका संबंध ‘भारत माता’ से है और कुछ लोग इस कारोबार पर कब्जा करना चाहते हैं.’’ Also Read - Budget Session of Parliament: सोनिया गांधी के नेतृत्व में कल कांग्रेस संसदीय समूह की बैठक, बजट सत्र के लिए बनेगी रणनीति