नई दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने प्रेस करते हुए मोदी सरकार (Modi Sarkar) पर सीधा हमला बोला है. राहुल गांधी ने कृषि कानूनों (Farm Laws) के विरोध के बीच जान गंवाने वाले किसानों और कोरोना के दौरान जान गंवाने वाले लोगों के वजूद को ही मानने को मना कर दिया गया. परिजनों को मुआवजा देने से मना कर दिया गया. राहुल गांधी ने कहा कि लोकसभा में मैंने पूछा कि आंदोलन में कितने किसानों की जान गई तो केंद्र सरकार (Union Government) ने कहा कि इसका कोई रिकॉर्ड ही नहीं है. सरकार को पता ही नहीं कि कितने किसानों की जान गई. जब किसान मजदूर को पैसा देने की बात होती है तब सरकार के पास पैसे की कमी हो जाती है, लेकिन जब देश के दो चार पूंजीपतियों की बात आती है तो सरकार के पास पैसे की कोई कमी नहीं होती है.Also Read - Goa Elections 2022: BJP ने गोवा चुनाव के लिए 6 उम्‍मीदवारों की जारी की List

राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने माना कि कृषि कानून गलत थे. प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं माफ़ी मांग रहा हूं. आखिर माफ़ी इसीलिए मांगी कि कृषि कानून गलत थे. अब ये भी मानना पड़ेगा जो किसानों की जान गई उन्हें मुआवजा देना पड़ेगा. देश की सरकार के लिए ये बहुत बड़ी बात नहीं कि किसानों को आर्थिक रूप से मदद दे. मानवता के तौर पर ही इतना पैसा तो दिया ही जा सकता है, लेकिन नहीं दिया जा रहा है. नीयत ठीक नहीं है. Also Read - PM Narendra Modi ने क्रिस गेल-जोंटी रोड्स को भेजा खास संदेश, दी गणतंत्र दिवस की बधाई

Also Read - Punjab Elections 2022: कांग्रेस ने पंजाब के लिए 23 उम्‍मीदवारों का किया ऐलान, देखें List

अहंकार है. सोचते हैं कि हम सत्ता में हैं तो किसी की सुनने की ज़रूरत नहीं. मानवीयता नहीं है. पीएम किसानों के परिवारों, बच्चों के बारे में सोचते तो तुरंत ये काम कर देते, लेकिन वो सिर्फ अपनी इमेज के बारे में सोच रहे हैं. इसलिए ऐसा नहीं हो रहा है. राहुल गांधी ने कहा कि पंजाब की कांग्रेस सरकार ने मुआवजा दिया है. हम नौकरी भी दे रहे हैं, लेकिन मुझे लगता है कि किसानों को और अधिक मिलना चाहिए, और अब ये जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है. केंद्र सरकार ये कर सकती है, लेकिन नहीं कर रही है.