CWC Meet: कांग्रेस (Congress) में नेतृत्व के मुद्दे पर चल रही चर्चा के बीच पार्टी की सर्वोच्च नीति निर्धारण इकाई कांग्रेस कार्य समिति (CWC) की बैठक सोमवार को होगी. इस बीच यह कयास लगाए जा रहे हैं कि क्या एक बार फिर पार्टी की कमान पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को सौंपी जाएगी? CWC की बैठक से ठीक पहले यानी रविवार को पार्टी के 23 वरिष्ठ नेताओं ने सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को पत्र लिखकर पार्टी में बड़े बदलाव की मांग की है. बता दें कि सीडब्ल्यूसी की अहम बैठक (CWC Meet) 24 अगस्त की सुबह 11 बजे होगी. Also Read - शिवराज को जनता ने सत्ता से हटाया, फिर भी बाज नहीं आए, रोज 3 झूठ बोलते हैं: कमलनाथ

मालूम हो कि सीडब्ल्यूसी की बैठक उस वक्त हो रही है जब अंतरिम अध्यक्ष के तौर पर सोनिया गांधी एक साल की अवधि पूरा कर चुकी हैं. राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद उन्हें अंतरिम अध्यक्ष नियुक्त किया गया था. पिछले कुछ हफ्तों के दौरान कांग्रेस के कई नेता खुलकर यह मांग कर चुके हैं कि एक बार फिर राहुल गांधी को कांग्रेस की कमान सौंपी जाए. Also Read - एमपी के गृहमंत्री ने कहा- "मैं मास्क नहीं पहनता", कांग्रेस ने पूछा-"क्या कायदे बस आम लोगों के लिए हैं?"

रिपोर्टों पर विश्वास किया जाए, तो सोनिया गांधी ने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि वह अपने स्वास्थ्य के कारण पार्टी प्रमुख के रूप में जारी नहीं रखना चाहती हैं. बैठक में कांग्रेस वर्किंग कमेटी द्वारा सोनिया गांधी को पार्टी प्रमुख के रूप में कार्यकाल जारी रखने का अनुरोध करने की संभावना है. हालांकि, अगर वह इसके लिए तैयार नहीं होती हैं तो पार्टी नेताओं को पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ खड़े होने की उम्मीद है. Also Read - मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने किसानों का कर्ज माफ किया, भाजपा ने झूठ बोला, सच सामने आया: राहुल गांधी

सूत्रों ने बताया कि इस बीच गुलाम नबी आज़ाद, कपिल सिब्बल, वीरप्पा मोइली और मनीष तिवारी सहित 23 दिग्गज कांग्रेस नेताओं ने सोनिया गांधी को सीडब्ल्यूसी की बैठक से पहले एक पत्र लिखा है. पत्र में नेताओं ने दावा किया है कि नेतृत्व पर अनिश्चितताओं के कारण पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल गिरा है. उन्होंने पत्र में कांग्रेस अध्यक्ष पद को लेकर भी वकालत की.

सूत्रों का कहना है शीर्ष नेतृत्व पर फैसले के अलावा बैठक में मौजूदा राजनीतिक मुद्दों, अर्थव्यवस्था की स्थिति और कोरोना वायरस संकट समेत कई मुद्दों पर चर्चा हो सकती है.